Thursday, December 9th, 2021

Amit Shah in Jammu Kashmir: शहीद जवान की पत्नी को गृह मंत्री शाह ने दिया सरकारी नौकरी का पत्र, सुरक्षा हालात पर समीक्षा बैठक में हुए शामिल

अनुच्छेद 370 हटने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर में तीन दिवसीय दौरे के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह श्रीनगर पहुंच गए हैं। सबसे पहले अमित शाह ने आतंकी हमले में मारे गए सीआईडी इंस्पेक्टर परवेज अहमद के परिजनों से मुलाकात की। इसके बाद अमित शाह राजभवन पहुंचे और अधिकारियों के साथ बैठक शुरू की। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जम्मू-कश्मीर के अपने तीन दिन के दौरे पर हैं। आज उन्होंने सुरक्षा समीक्षा के संदर्भ में उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। हाल ही में बढ़े टेरर किलिंग मामले पर चर्चा कर रहे हैं। घाटी पहुंचने के बाद केंद्रीय मंत्री अमित शाह श्रीनगर के नौगाम में मारे गए सीआईडी इंस्पेक्टर परवेज अहमद के आवास पर उनके परिवार से मिलने पहुंचे। परवेज को जून 2021 को आतंकियों ने मार गिराया था। इस दौरान अमित शाह के साथ जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और डीजीपी दिलबाग सिंह भी मौजूद रहे। इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री ने अहमद की पत्नी फातिमा अख्तर से मुलाकात की और उन्हें सरकारी नौकरी के लिए आधिकारिक कागजात भी दिए। 22 जून की शाम को इंस्पेक्टर परवेज अहमद पर आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया था। जिसमें वो शहीद हो गए थे। 

तीन दिवसीय दौरे में वह जम्मू-कश्मीर के सुरक्षा हालात की समीक्षा के साथ ही विभिन्न विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा करेंगे। खास जोर हालिया टारगेट किलिंग की घटनाओं को भविष्य में रोकने और आतंकवाद को जड़ से कुचलने पर होगा। श्रीनगर में गृह मंत्री शारजाह के लिए सीधी विमान सेवा का शुभारंभ करेंगे। दौरे के मद्देनजर जम्मू और श्रीनगर में भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। दोनों ही जगह ड्रोन से भी निगरानी हो रही है। सुरक्षा संबंधी बैठकों में गृह मंत्रालय के साथ ही विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों एनआईए, आईबी, सीआरपीएफ, बीएसएफ के वरिष्ठ अधिकारी भी श्रीनगर पहुंच चुके हैं।इस बीच उप राज्यपाल मनोज सिन्हा और केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने बैठकें कर जम्मू व श्रीनगर में कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया। जम्मू में गृह मंत्री 24 अक्तूबर को रहेंगे। यहां वह भगवती नगर में सभा को संबोधित करेंगे। लाभार्थी सम्मेलन में केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के 80 लाभार्थियों को प्रमाणपत्र और योजना से जुड़े दस्तावेज सौंपेंगे। आईआईटी जम्मू के नए ब्लॉक का उद्घाटन करने के साथ ही विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात का कार्यक्रम भी प्रस्तावित हैरैली भी सरकारी, नहीं लगेंगे भाजपा के झंडे
जम्मू में आयोजित रैली को सरकारी रूप दिया गया है। रैलीस्थल पर लाभार्थी सम्मेलन की वजह से किसी प्रकार का पार्टी का कोई कार्यक्रम नहीं होगा। न तो झंडे लगेंगे और न ही किसी प्रकार का अन्य आयोजन होगा। रैली स्थल पर स्क्रीन टीवी लगाए गए हैं ताकि रैली में पहुंचे लोगों को किसी प्रकार की कोई परेशानी न होने पाए।7अमित शाह श्रीनगर के नौगाम में मारे गए सीआईडी इंस्पेक्टर परवेज अहमद के आवास पर उनके परिवार के साथ संवेदना व्यक्त करने के लिए पहुंचे। परवेज को जून 2021 में संदिग्ध आतंकियों ने मार गिराया था।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: