Friday, June 25th, 2021

जी7 सम्मेलन में वर्चुअली हिस्सा लेंगे पीएम नरेंद्र मोदी, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने किया आमंत्रित

British PM Invites PM Modi in G7 Summit: ब्रिटेन के कॉर्नवाल में आयोजित किए जा रहे जी7 सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया है

( G7 Summit Countries). अब इस सम्मेलन में पीएम मोदी 12 और 13 जून को वर्चुअली हिस्सा लेंगे. इस बार ब्रिटेन 47वें जी7 शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है.

उसने भारत के अलावा सम्मेलन में शामिल होने के लिए अतिथि देशों के तौर पर ऑस्ट्रेलिया, रिपब्लिक ऑफ कोरिया और दक्षिण अफ्रीका को भी आमंत्रित किया है.

विदेश मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी शिखर सम्मेलन के संपर्क (आउटरीच) सत्रों में डिजिटल माध्यम से भाग लेंगे.

इस साल के सम्मेलन की थीम ‘बिल्ड बैक बैटर’ है. इसके साथ ही ब्रिटेन ने अपनी अध्यक्षता के लिए चार प्राथमिकता वाले क्षेत्रों की रूपरेखा तैयार की है.

इन प्राथमिताओं में कोरोना वायरस से वैश्विक रिकवरी के बीच भविष्य में आने वाली महामारी के खिलाफ खुद को मजबूत करना, भविष्य में स्मृद्धि बढ़ाने के लिए मुक्त और निष्पक्ष व्यापार का समर्थन करना, जलवायु परिवर्तन से निपटना,

जैव विविधता को संरक्षित करना, साझा मूल्यों और खुले समाज की हिमायत करना शामिल है.

दूसरी बार हिस्सा ले रहे पीएम मोदी

ऐसा दूसरी बार है, जब प्रधानमंत्री मोदी जी7 बैठक में हिस्सा ले रहे हैं. इससे पहले भारत को साल 2017 में फ्रेंच प्रेसीडेंसी की ओर से आमंत्रित किया गया था (PM Modi in G7 Summit).

फ्रांस ने भारत को ‘सद्भावना भागीदार’ के तौर पर आमंत्रित किया था. उस समय पीएम मोदी ने जिन सत्रों में हिस्सा लिया था, उनमें जलवायु, जैव विविधता एवं महासागर और डिजिटल परिवर्तन शामिल थे. विदेश मंत्रालय ने पिछले महीने कहा था

कि पीएम मोदी देश में कोरोना वायरस महामारी की मौजूदा स्थिति के मद्देनजर जी7 के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रिटेन नहीं जाएंगे.

कौन से देश हैं जी7 का हिस्सा?

जी7 समूह में ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और अमेरिका शामिल हैं. अन्य देशों को ब्रिटेन ने अध्यक्ष होने के नाते आमंत्रित किया है.

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन भी इस सम्मेलन में हिस्सा लेंगे, जिसके लिए वह बुधवार को ब्रिटेन पहुंच गए हैं (G7 Countries Name). वह सम्मेलन से इतर पीएम जॉनसन के साथ मुलाकात करेंगे.

ये सम्मेलन इसलिए भी महत्वपू्र्ण है क्योंकि दुनिया इस समय कोरोना वायरस महामारी का सामना कर रही है, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था काफी प्रभावित हुई है. इसके साथ ही चीन और रूस भी दुनिया के लिए चुनौतीपूर्ण साबित हो रहे हैं.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: