Saturday, July 24th, 2021

फिर से लौटा FPI का भरोसा, जून में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने बाजार में अब तक 13424 करोड़ रुपए डाले

FPI in June: अप्रैल और मई में शेयर बाजार से लगातार निकासी करने के बाद जून के महीने में फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स शुद्ध लिवाल बने हुए हैं . विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (Foreign Portfolio Investors) ने जून में अबतक भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 13,424 करोड़ रुपए डाले हैं. कोविड-19 संक्रमण के मामलों में कमी के बीच अर्थव्यवस्था के जल्द खुलने की उम्मीद से भारतीय बाजारों के प्रति विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ा है.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने एक से 11 जून के दौरान शेयरों में 15,520 करोड़ रुपए का निवेश किया. मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘पिछले दो सप्ताह के दौरान शेयरों में विदेशी निवेशकों के शुद्ध प्रवाह की वजह कोरोना वायरस के घटते मामलों के बीच अर्थव्यवस्था के जल्द खुलने की उम्मीद है.’’ जून में एफपीआई ने ऋण या बॉन्ड बाजार से 2,096 करोड़ रुपए की निकासी की है. इस तरह उनका शुद्ध निवेश 13,424 करोड़ रुपए रहा है. इससे पहले मई में एफपीआई ने भारतीय बाजारों से 2,666 करोड़ रुपए और अप्रैल में 9,435 करोड़ रुपए की निकासी की थी.

रिकॉर्ड हाई पर बंद हुआ शेयर बाजार

इधर उतार-चढ़ाव के बीच इस सप्ताह शेयर बाजार तेजी के साथ बंद हुआ. सेंसेक्स में साप्ताहिक आधार पर 2.05 फीसदी की तेजी दर्ज की गई, जबकि निफ्टी में साप्ताहिक आधार पर 0.82 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. निफ्टी लगातार चार सप्ताह से तेजी के साथ और सेंसेक्स लगातार तीन सप्ताह से तेजी के साथ बंद हो रहा है. शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी ने नया रिकॉर्ड बनाया. सेंसेक्स 52474 अंक पर और निफ्टी 15799 अंक पर बंद हुआ.

इस सप्ताह निवेशकों ने कमाए 3.91 लाख करोड़

इस सप्ताह सेंसेक्स की टॉप- 10 में से पांच कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में 1,01,389.44 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी हुई. BSE लिस्टेड सभी कंपनियों का टोटल मार्केट कैप बढ़कर 231.11 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया. पिछले सप्ताह यह 227.20 लाख करोड़ रुपए था. इस तरह एक सप्ताह में निवेशकों की संपत्ति में कुल 3.91 लाख करोड़ की तेजी आई. सबसे अधिक लाभ में आईटी क्षेत्र की कंपनियां टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और इन्फोसिस रहीं.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: