Sunday, October 17th, 2021

CG News : गोबर से बिजली बनाने वाला छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य – मुख्यमंत्री बघेल



युवाओं को रचनात्मक कार्यो से जोड़ने के लिए राजीव युवा मितान क्लब योजना प्रारंभ

पूर्वजों द्वारा देखे गए समृद्ध छत्तीसगढ़ का सपना हो रहा है साकार

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने दी मुंगेली जिले को 215 करोड़ 81 लाख 44 हजार रूपये के विभिन्न विकास और निर्माण कार्यो की सौगात

जिले के जरहागांव उप तहसील को मिला पूर्ण तहसील का दर्जा

मुंगेली में गल्र्स काॅलेज और पथरिया में पाॅलिटेक्निक काॅलेज और डिंडौरी में सहकारी बैंक खोलने की घोषणा

मुंगेली 04 अक्टूबर 2021,NHI,मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज जिला मुख्यालय मुंगेली के डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्टेडियम में आयोजित विशाल किसान सम्मेलन में शामिल हुए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने मुंगेली जिले के समन्वित  विकास के लिए 215 करोड़ 81 लाख 44 हजार रूपये की विभिन्न विकास और निर्माण कार्यो की सौगात दी। विशाल किसान सम्मेलन की शुरूआत राज्य गीत ‘‘अरपा पैरी के धार’’ से हुआ। तत्पश्चात् जिले के नागरिकों ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को भव्य माला पहनाकर आत्मीय स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने विशाल किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य गोबर से बिजली बनाने वाला देश का प्रथम राज्य है। गोबर से बिजली बनाने की शुरूआत रायपुर और बेमेतरा जिले से हो गया है। उन्होने कहा कि राज्य के कई गोठानों में गोबर से बिजली उत्पादन की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी है। राज्य की स्व सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा विभिन्न उत्पादों के साथ-साथ अब गोबर से बिजली का उत्पादन और बिक्री भी करेंगे। इससे गोठान बिजली के मामले में भी स्वावलंबी होंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने जिले के विकास खण्ड मुंगेली के उप तहसील जरहागांव को पूर्ण तहसील का दर्जा देने, जिला मुख्यालय मुंगेली में गल्र्स काॅलेज प्रारंभ करने, विकास खण्ड लोरमी के ग्राम डिंडौरी में को-आॅपरेटिव्ह बैंक प्रारंभ करने, विकास खण्ड पथरिया में पाॅलिटेक्निक काॅलेज प्रारंभ करने तथा पथरिया में संचालित काॅलेज का बाउंड्रीबाल करने की घोषणा की। जिसका लोगों ने तालियां बजाकर मुख्यमंत्री के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।  
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने विशाल किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे पूरखो डाॅ. खूबचंद्र बघेल, पंडित सुंदर लाल शर्मा, बेरिस्टर छेदीलाल, मिनी माता जैसे अनेक मनीषियों द्वारा समृद्ध छत्तीसगढ़ का सपना देखा गया था । उनका देखा गया सपना आज साकार हो रहा है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राज्य के युवाओं को रचनात्मक कार्यो से जोड़ने और विकास में सहभागी बनाने के लिए राजीव युवा मितान क्लब नाम से एक महत्वाकांक्षी योजना प्रारंभ की गई है। इसके तहत राज्य के प्रत्येंक ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकायों के वार्डो में चरणबद्ध रूप से राजीव युवा मितान क्लब गठित किये जाएंगे। उन्होने कहा कि प्रत्येंक राजीव युवा मितान क्लब को प्रत्येंक 03 माह में 25 हजार रूपये के मान से एक साल में रचनात्मक गतिविधियों के संचालन के लिए एक लाख रूपये दिये जाएंगे। इसके माध्यम से हम नवा छत्तीगसढ़ गढ़ने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ रहे है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि पूरे कोरोना काॅल में हम सबने एक जुट होकर चुनौतियों को सामना किया और जीत हमारी हुई। उन्होने कहा कि  स्वामी आत्मानंद स्कूल के रूप में बच्चों को उनकी प्रतिभा निखारने का एक बेहतर अवसर देने की व्यवस्था की है। जिसके फलस्वरूप आज छत्तीसगढ़ में गरीब से गरीब छात्र भी निजी स्कूलों जैसी सुविधा के साथ अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई कर रहे है। स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खुल जाने से अब हर वर्ग के बच्चों को बराबरी के अवसर बराबरी की सुविधाएं मिल रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश में अब तक 172 स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल का संचालन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि  खरीफ 2021 से धान के साथ खरीफ की प्रमुख फसल मक्का, कोदो, कुटकी, सोयाबीन, अरहर तथा गन्ना उत्पादक कृषकों को प्रति वर्ष 09 हजार प्रति एकड़ आदान सहायता दी जाएगी। इसी तरह वर्ष 2020-21 में जिस रकबे से किसान द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय किया था। यदि वह धान के बदले कोदो,कुटकी,गन्ना, अरहर, मक्का, सोयाबीन, दलहन,तिलहन, सुगंधित धान और केला, पपीता लगता है, तो उसे प्रति एकड़ 10 हजार रूपये आदान सहायता राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना प्रारंभ की गई है। इस योजना के तहत पंजीयन का कार्य किया जा रहा है और पंजीयन का कार्य आगामी 30 नवम्बर तक होगा। उन्होने कहा कि इस योजना के तहत पंजीकृत भूमिहीन मजदूरों और पौनी पसारी व्यवस्था से जुड़े लोगों को प्रत्येंक साल प्रत्येंक परिवार 06 हजार रूपये की आर्थिक अनुदान प्राप्त होगी।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: