Thursday, May 19th, 2022

CGNews : पेट की भूख मिटाने सहारनपुर की कला लेकर आए हैं रायपुर ये कारीगर

रायपुर,राजधानी में कई लोग दूसरे राज्यों से अलग अलग समय , मौसम में आकर अपना व्यवसाय करते हैं। जैसे ठंडी में तिब्बतियन लोग आकर सुभाष स्टेडियम के पास स्वेटर , शॉल , जैकेट आदि का व्यवसाय करते है उसी तरह एक व्यक्ति अपनी कला लेकर उत्तर प्रदेश से यहां हमारे पास आये हैं।

मोती बाग के सामने दीवाल घड़ियां बेचते इंतज़ार ( नाम ) सहारनपुर से आए हैं। उन्होंने बताया कि ये आम घड़ियां ही है बस फर्क है लकड़ी से बनाई कला का और हम उसी का दाम लेते हैं। लकड़ी से हिरण , सूरज , चील आदि के रूप बनाकर घड़ियां फिट की गई है। वे कहते हैं वैसे हम कोई भी लकड़ी से इसे बना देंगे लेकिन ये शेन लकड़ी से बनाया है जो हिरद्वार से आती है । वे कहते हैं हमारे उधर सहारनपुर में लकड़ी का बहुत काम होता है । बहुत सी कलाकारी होती है। उन्होंने बताया कि उनके पास 600-1000 रुपये तक का सामान है। उन्होंने कहा हम यही 4-5 दिन पहले यहां आए है अभी संतोषी नगर में रह रहे हैं और जब ये माल बिक जाएगा तो फिर वापिस चले जाएंगे ।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: