Friday, October 22nd, 2021

CHINESE CYBER ATTACK की साजिश रच रहा था चीनी नागरिक, 1300 INDIAN SIM भेज चुका है चीन

CHINESE CYBER ATTACK : पश्चिम बंगाल के मालदा जिला अंतर्गत मिरिक सुल्तानपुर में अवैध तरीके से सीमा पार करने के दौरान गिरफ्तार किए गए 36 वर्षीय चीनी नागरिक (Chinese National) हान जूनवे (Han Zeune) भारत पर साइबर अटैक करने की तैयारी कर रहा था.

NEW DELHI, NEWS NHI, जब्त किए गए लैपटॉप (Laptop) और आईफोन (Iphone) से यह रहस्य उजागर हुआ है. वह लगभग 1300 भारतीय सिम (Indian SIM) चीन भेज चुका है. चीनी नागरिक से पिछले तीन दिनों से जिला पुलिस की टीम के साथ विभिन्न एजेंसियां पूछताछ कर रही है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम भी उससे पूछताछ के लिए बंगाल पहुंची है.

सूत्रों ने बताया है कि गिरफ्तारी के तीन दिन बीत जाने के बावजूद उसके लैपटॉप और आईफोन को नहीं खोला जा सका है. इसकी वजह है कि वह दोनों ही डिवाइस में पासवर्ड “मंडारिन” भाषा में रखा है. इसके अलावा इंटरनेट पर इसी भाषा में वह चैटिंग करता था. गत शनिवार को कोर्ट के निर्देश पर उसे 18 जून तक के लिए पुलिस हिरासत में लिया गया है.

CHINESE CYBER ATTACK
CHINESE CYBER ATTACK की साजिश रच रहा था चीनी नागरिक, 1300 INDIAN SIM भेज चुका है चीन

1300 भारतीय सिम और 1000 से ज्यादा डेटाबेस भेज चुका है चीन

पूछताछ में यह भी पता चला है कि चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा संचालित विश्वविद्यालय का छात्र रह चुका है. वहां से उसने अंग्रेजी में पढ़ाई की है.

इसके बाद उस पर चीन के लिए जासूसी करने का शक और पुख्ता हो गया है. यह भी पता चला है कि वह 1300 भारतीय सिम (INDIAN SIM) ही नहीं बल्कि 1000 से ज्यादा महत्वपूर्ण डेटाबेस भी चीन भेज चुका है.

चीन के हुबई प्रांत के निवासी हान को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने गुरुवार को बांग्लादेश से भारत में घुसपैठ करते गिरफ्तार किया था. बीएसएफ व अन्य जांच एजेंसियों द्वारा पूछताछ के बाद हान को बंगाल पुलिस को सौंप दिया गया था.

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का छात्र रह चुका है चीनी नागरिक

पुलिस ने दावा किया है कि चीनी नागरिक ने पूछताछ में बताया कि वह चीन में चुन शी गोंग चेंग विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में स्नातक है. दरअसल, यह विश्वविद्यालय चीनी सेना यानी पीएलए के नियंत्रण में है.

आमतौर पर पीएलए या चीनी खुफिया विभाग द्वारा होनहार छात्रों को अंग्रेजी और अन्य भाषाओं का अध्ययन करने के लिए प्रायोजित किया जाता है

और वे चाहते हैं कि ऐसे छात्र जासूसी में अपना करियर स्वीकार करें. गौरतलब है कि चीन की सेना और वहां का खुफिया विभाग लगातार भारत के खिलाफ काम कर रहा है. ऐसे में पीएलए द्वारा संचालित विश्वविद्यालय से हान के स्नातक करने के खुलासे के बाद जांच एजेंसियों का उस पर भारत के खिलाफ जासूसी करने का शक और गहरा गया है. हान भारत के लिए एक वांछित अपराधी भी रहा है.

चीनी नागरिक की पत्नी को भी हुई है गिरफ्तारी

उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) को उसकी तलाश थी. उसके एक बिजनेस पार्टनर सन जियांग को यूपी एटीएस ने पिछले दिनों धोखाधड़ी के एक मामले में गिरफ्तार कर लिया था.

जियांग ने ही एटीएस के समक्ष जूनवे और उसकी पत्नी की अवैध गतिविधियों व उन्हें भारतीय सिम भेजे जाने के संबंध में खुलासा किया था. हान ने इससे पहले बीएसएफ व अन्य एजेंसियों द्वारा की गई पूछताछ में खुलासा किया

कि उसने और उसके साथियों ने फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल करके पिछले दो वर्षों के दौरान करीब 1300 भारतीय सिम कार्ड को अंडर गारमेंट्स में छिपाकर यहां से छीन ले जा चुका है. तस्करी की गई इन सिम कार्ड का इस्तेमाल बैंक खातों को हैक करने और वित्तीय धोखाधड़ी के लिए किया जाता है.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: