Friday, October 22nd, 2021

Covid-19: बच्चों पर नोवावैक्स वैक्सीन की क्लीनिकल ट्रायल जुलाई में शुरू करेगी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया

Covid-19: सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) जुलाई से बच्चों पर नोवावैक्स वैक्सीन की क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की योजना बना रही है. बच्चों पर क्लीनिकल ट्रायल में जाने वाली देश की यह चौथी वैक्सीन होगी.

मंगलवार को केंद्र सरकार ने कहा था कि कोविड-19 के खिलाफ नोवावैक्स वैक्सीन (NOVAVAX VACCINE) की प्रभावशीलता के आंकड़ें भरोसा पैदा करने वाले हैं और इसकी क्लीनिकल ट्रायल भारत में पूरा होने के एडवांस्ड स्टेज में है.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से टीका निर्माण के लिए करार करने वाली नोवावैक्स इंक (NOVAVAX INC) ने सोमवार को कहा था कि उसकी वैक्सीन कोविड-19 के खिलाफ अधिक प्रभावी है

और यह वायरस के सभी वेरिएंट के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करती है. कंपनी ने कहा कि वैक्सीन कुल मिलाकर करीब 90.4 फीसदी असरदार है और शुरुआती आंकड़ें बताते हैं कि यह सुरक्षित है.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने मंगलवार को कहा था कि सार्वजनिक रूप से उपलब्ध आंकड़े यह संकेत भी देते हैं कि नोवावैक्स वैक्सीन सुरक्षित और बेहद प्रभावी है. उन्होंने कहा था,

“उपलब्ध आंकड़ों से हम जो देख रहे हैं वह यह कि वैक्सीन बेहद सुरक्षित है. लेकिन जो तथ्य आज के लिए इस वैक्सीन को प्रभावी बनाता है वह यह कि इसका उत्पादन भारत में सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा किया जाएगा.”

Covid-19: भारत बायोटेक और जायडस कैडिला भी कर रही क्लीनिकल ट्रायल

इससे पहले हैदराबाद स्थित कंपनी भारत बायोटेक 12-18 साल के बच्चों पर कोवैक्सीन की क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर चुकी है. यह ट्रायल एम्स पटना और दिल्ली में कुल 525 बच्चों पर किया जाएगा.

ट्रायल तीन हिस्सों में होना है और इसके तहत 12-18, 6-12 और 2-6 साल एज ग्रुप के 175-175 वॉलेंटियर्स के तीन समूह बनेंगे. ट्रायल के दौरान वैक्सीन की दो डोज मांसपेशियों में दी जाएंगी, जिनमें से दूसरी डोज पहली डोज लगने के 28वें दिन दी जाएगी.

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने 12 मई को 2 से 18 साल एज ग्रुप के बच्चों में भारत बायोटेक के कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल करने की मंजूरी दे दी थी. भारत बायोटेक बच्चों के लिए नेजल वैक्सीन की भी क्लीनिकल ट्रायल कर रही है.

वहीं जायडस कैडिला भी 12-18 साल के बच्चों के लिए अपनी कोविड वैक्सीन, ZyCoV-D के जरिए क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर चुकी है. फार्मा कंपनी अब 5-12 साल के बच्चों पर भी क्लीनिकल ट्रायल की योजना बना रही है.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: