Wednesday, June 23rd, 2021

क्या पश्चिम बंगाल में हाल में आए Cyclone Yaas में मरे जानवरों का मांस बेचा जा रहा है ?

क्या पश्चिम बंगाल में हाल में आए Cyclone Yaas में मरे जानवरों का मांस बेचा जा रहा है ?

Cyclone Yaas : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने राज्य के लोगों को होटलों और रेस्टोरेंट में मीट खाने को लेकर सतर्क किया है. सीएम ने पुलिस अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे उन जगहों पर छापेमारी करें,

जहां इस तरह के मांस को स्टोर किया जा सकता है. ममता बनर्जी ने कहा, ‘ऐसे भी लोग हैं, जो मरे हुए जानवरों का मांस होटलों और रेस्टोरेंट को बेच देते हैं. इसके बाद यही ग्राहकों को परोस दिया जाता है. पहले भी हमने इस तरह के एक रैकेट का भंडाफोड़ किया था.’

बता दें कि अप्रैल 2018 में बंगाल पुलिस ने कोलकाता के पास एक रैकेट का पर्दाफाश किया था, जो डंपिंग ग्राउंड में मरे पड़े जानवरों का मांस बेच देता था. जांच में यह बात सामने आई थी कि मरे हुए जानवरों के मांस को केमिकल डालकर प्रोसेस्ड किया जाता था. इसके बाद -44°C तक के तापमान में रखा जाता था. फिर उसे बंगाल, बिहार, ओडिशा और असम जैसे राज्यों में बेच दिया जाता था.

यास चक्रवात से हुए नुकसान की समीक्षा बैठक के दौरान सीएम ममता बनर्जी ने ये बातें कही. उन्होंने अधिकारियों से कहा, ‘ऐसी जगहों को चेक करिए, जहां इस तरह के मांस को स्टोर किया जा सकता है और बेचा जा सकता है.

Cyclone Yaas

अगर ऐसा है तो तुरंत जब्त करिए और कार्रवाई करिए. मरे हुए जानवर को दफना दें.’ अधिकारियों ने मीटिंग में बताया कि कुछ हजार पशुओं और पोल्ट्री बर्ड्स की यास चक्रवात के चलते मौत हुई है.

पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में गांवों में इसके चलते बाढ़ जैसी स्थिति देखने को मिली थी. इसकी वजह से भी बड़ी संख्या में पशुओं और पक्षियों की मौत हुई है.
ममता बनर्जी ने कहा, ‘यहां हर साल चक्रवात आ रहे हैं. बंगाल चक्रवात से सबसे अधिक प्रभावित राज्य बन गया है. इससे सरकारी खजाने को भारी नुकसान हो रहा है. अब तक 138 से अधिक तटबंध क्षतिग्रस्त हो गए हैं.

हर साल तटबंध बनाना या मरम्मत करना संभव नहीं है. मुझे लगता है कि हमें लीक से हटकर सोचना होगा. मैं सभी से अपने विचारों को शेयर करने की अपील करती हूं, ताकि हम ऐसी प्राकृतिक आपदाओं के दौरान नुकसान की सीमा को कम कर सकें.’

सीएम ममता बनर्जी ने सभी जिला अधिकारियों को ब्लॉक लेवल पर राहत अभियान पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए, ताकि कोई भी राज्य सरकार द्वारा दी जा रही मदद से वंचित न रहे. उन्होंने जिला अधिकारियों से सभी प्रभावित लोगों को पर्याप्त पेयजल और भोजन उपलब्ध कराने के लिए भी कहा है.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: