Friday, June 25th, 2021

Cyclone Yaas Live 2021 : चक्रवात ‘यास’ बचाव और राहत कार्यों के लिए Indian Navy के पोत और विमान स्टैंडबाय पर

Cyclone Yaas Live 2021 : चक्रवात ‘यास’ बचाव और राहत कार्यों के लिए Indian Navy के पोत और विमान स्टैंडबाय पर

New Delhi, News Hustle India, एक आसन्न चक्रवात का भूत पहले से ही कोविड -19 के वजन से जूझ रहे केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर के तटीय जिलों में समुद्र के किनारे के ग्रामीणों को सता रहा है।

केंद्रपाड़ा जिले के जम्बू के समुद्र तटीय गांव में रहने वाले अमरेंद्र मंडल ने कहा, “फिलहाल, कोविड-19 से ज्यादा हम चक्रवात को लेकर चिंतित हैं।” केंद्रपाड़ा के जिला आपातकालीन अधिकारी संबीत सत्पथी ने कहा, “सरकार ने लोगों को समुद्र के किनारे जाने के खिलाफ चेतावनी जारी की है।” बड़ी संख्या में भयभीत ग्रामीण सुरक्षित स्थान पर जाने को तैयार हैं।

पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास के उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर एक निम्न दबाव वाले क्षेत्र के अगले 24 घंटों के दौरान चक्रवाती तूफान, ‘यास’ Cyclone Yaas के रूप में बदलने और उत्तर पश्चिम दिशा की ओर बढ़ते हुए 26 मई के आसपास उत्तरी ओडिशा और पश्चिम बंगाल के बीच तट को पार करने की संभावना है।

 इस बीच नौसेना चक्रवाती तूफान की स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए है। पूर्वी नौसेना Indian Navy कमान के मुख्यालय और पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा क्षेत्र में नौसेना के अधिकारियों ने चक्रवात यास के प्रभावों से निपटने की तैयारी के लिए प्रारंभिक गतिविधियां कीं और आवश्यकता के अनुसार सहायता प्रदान करने के लिए राज्यों के प्रशासन के साथ निरंतर संपर्क बनाये हुए हैं।

तैयारियों के तहत मौजूदा संसाधनों को बढ़ाने के लिए ओडिशा और पश्चिम बंगाल में आठ बाढ़ राहत दल और चार गोताखोरी दल तैनात किए गए हैं। ओडिशा और पश्चिम बंगाल तट के साथ ही सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में सहायता देने नौसेना के चार जहाज मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) सामग्री, गोताखोरी और चिकित्सा दलों के साथ स्टैंडबाय पर हैं। 

नौसेना के विमानों को नौसेना के हवाई स्टेशनों, विशाखापत्तनम में आईएनएस डेगा और चेन्नई के पास आईएनएस राजाली में तैयार रखा गया है जिससे सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया जा सके, हताहतों की निकासी और जरूरत के अनुसार राहत सामग्री को एयरड्रॉप किया जा सके।

यह भी पढ़े – CBSE Board Exam : रद्द नहीं होगी 12 वीं की बोर्ड परीक्षाएं , एक जून को तारीखों का एलान

Cyclone Yaas Live 2021 : Tauktae के बाद यास मचाएगा तबाही?

Cyclone Yaas Live 2021

 इस तूफान को लेकर भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) का कहना है कि चक्रवात यास के बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान (Cyclone) में बदलने और 26 मई को ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने की आशंका है।

शनिवार को पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे सटे उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर एक निम्न दबाव वाला क्षेत्र बना। एक कम दबाव का क्षेत्र चक्रवात के गठन का पहला चरण होता है, यह आवश्यक नहीं है कि सभी निम्न दबाव वाले क्षेत्र चक्रवाती तूफान में तब्दील होते हैं।

आईएमडी ने कहा, “एक निम्न दबाव के क्षेत्र के कल, 23 ​​मई की सुबह तक बंगाल की खाड़ी के पूर्व-मध्य क्षेत्र पर विक्षोभ में केंद्रित होने की आशंका है। इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है, जो 24 मई तक एक चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है और अगले 24 घंटों में बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है।” मौसम विभाग ने कहा कि यह उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ता रहेगा और आगे गंभीर रूप लेगा और 26 मई की सुबह तक पश्चिम बंगाल के पास बंगाल की उत्तरी खाड़ी और उससे सटे उत्तरी ओडिशा और बांग्लादेश के तटों तक पहुंच जाएगा।

आईएमडी ने कहा, ”26 मई की शाम के आसपास इसके पश्चिम बंगाल और उससे सटे उत्तरी ओडिशा और बांग्लादेश के तटों को पार करने की बहुत संभावना है।” गौरतलब है कि पिछले हफ्ते, अत्यंत भीषण चक्रवात ताउते गुजरात तट से टकराया और पूरे पश्चिमी तट पर तबाही के निशान छोड़ गया। यह आगे चलकर कमजोर पड़ गया।

इसका प्रभाव उत्तर भारत के मैदानी इलाकों और यहां तक ​​कि पहाड़ी राज्यों उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भी महसूस किया गया। अप्रैल-मई और अक्टूबर-दिसंबर की अवधि में प्राय: चक्रवात आते हैं। पिछले साल मई में दो चक्रवात- अम्फान और निसर्ग भारतीय तटों से टकराये थे।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: