Sunday, May 22nd, 2022

UP Conversion Racket: UP ATS का बड़ा खुलासा! मौलाना कलीम सिद्दकी के ट्रस्ट को विदेशी फंडिंग से मिले 3 करोड़, 1000 लोगों का कराया धर्मांतरण

ग्लोबल पीस सेंटर (Global Peace Center) के अध्यक्ष मौलान कलीम सिद्दीकी (Maulana Kalim Siddiqui) की गिरफ्तारी के बाद यूपी एटीएस (UP ATS) ने बड़ा खुलासा किया है. उत्तर प्रदेश के एडीजी (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया है कि जांच में पता चला है कि मौलाना कलीम सिद्दीकी के ट्रस्ट को बहरीन से 1.5 करोड़ रुपए समेत विदेशी फंडिग (Foreign Funding) से 3 करोड़ रुपए मिले हैं. इस मामले की जांच के लिए एटीएम की छह टीमों का गठन किया गया था.

पुलिस ने बताया कि यूपी एटीएस ने मुजफ्फरनगर निवासी मौलाना कलीम सिद्दीकी को एटीएस द्वारा सबसे बड़े धर्मांतरण सिंडिकेट के भंडाफोड़ करने के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है. कलीम जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है. जो कई मदरसों को फंड करता है. इसके लिए उसे भारी विदेशी फंडिंग मिलती है.

उत्तर प्रदेश के महानिरीक्षक जीके गोस्वमी ने बताया कि सिंडिकेट ने भारत में लगभग एक हजार लोगों का धर्मांतरण करवाया है. वहीं मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बरक ने कहा कि ये गलत है. बीजेपी सरकार के पास मुसलमानों को परेशान करने के अलावा कोई काम नहीं है.

मंगलवार को मेरठ से की गई थी गिरफ्तारी

कलीम की गितविधियां संधिग्ध होने का शक जताया गया था. मौलाना कलीम सिद्दीकी को मंगलवार शाम मेरठ में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. रात 9 बजे नमाज के बाद वो अपने साथियों के साथ वापस फुलत के लिए रवाना हुए. इस दौरान परिजनों से उन्हें फोन किया, तो उन्होंने फोन नहीं उठाया. इसके बाद परिजनों ने उनके तलाश शुरू की. तो पता चाल की एटीएस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है.

जानकारी के अनुसार मौलाना कलीम उमर गौतम का करीबी है. उमर गौतम ने पूछताछ में खुलासा किया था कि उसके साथी मौलाना कलीम सिद्दीकी ने बीते सालों में 5 लाख से भी ज्यादा लोगों का धर्म परिवर्तन कराया है. IDC के जरिए नाबालिगों के धर्मांतरण को भी अंजाम दिया जा रहा था. धर्मांतरण करने वाले जिन लोगों के नाम एटीएस को मिले थे, उनमें ईसाई 4 प्रतिशत, सिख 0.75 प्रतिशत और एक जैन व्यक्ति भी शामिल था.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: