Tuesday, June 22nd, 2021

संपादकीय : कहीं मतभेदों का शिकार न हो जाये कोरोना महामारी !..राष्ट्रीय समस्या मिलकर लड़ी जाती है ।

NHI,न्यूज हसल इंडिया, 20 अप्रेल,

एक मई से सभी बालिगों को टीकाकरण की घोषणा के बाद लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली है । कोरोना ने जिस तेजी से संक्रमण को अंजाम दिया है उस पर सरकार को सोचने समझने का मौका ही नही मिल पाया । आनन फानन में सरकार वही कर पा रही है जो उसे सूझ रहा है । दिल्ली में सुबह अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल के साथ जो बैठक की उसमें नाइट कर्फ़्यू का एलान केजरीवाल ने किया फिर रात तक स्थितियां बदल गई रात में कहा गया कि दिल्ली में एक हफ्ते का लॉक डाउन लगाया गया है । वहीं इस पर राजनीति भी इस कदर हावी है कि एक तरफ छत्तीसगढ़ सरकार बार बार कह रही है कि केंद्र से कोई सहयोग नही मिल रहा है जबकि वहीं अरविंद केजरीवाल कह रहे है कि केंद्र से पर्याप्त सहयोग मिल रहा है हम केंद्र सरकार को धन्यवाद करते हैं । तो क्या केंद्र सरकार सहयोग करने में भेद कर रही है ? दरअसल सरकारों के बीच राष्ट्रीय मामलों में समन्वय नहीं है जिसका खामियाजा देश को भुगतना पड़ता है । किट ,दवाई व वैक्सिनेशन को लेकर भी केंद्र सरकार की भूमिका पर क़ई प्रदेश नाराज रहें हैं खासकर उद्धव ठाकरे सरकार बार बार यह आरोप केंद्र पर लगा रही थी कि उसने महाराष्ट्र को वैक्सिनेशन के बहुत कम डोज भेजे है जबकि स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हर बार स्पष्ट किया कि महाराष्ट्र को टीके की पर्याप्त व एक्सट्रा डोज भेजी गई है उन्होंने स्टॉक भी गिना दिया है । जीएसटी को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार ने समय समय पर यह बयान देती रही है कि केंद्र ने हमारा जीएसटी का पूरा पैसा नहीं दिया है जिस वजह से छत्तीसगढ़ सरकार को लोन लेना पड़ा है । यह स्प्ष्ट देखने को मिल रहा है कि गैर भाजपा सरकारें केन्द्र पर असहयोग करने का आरोप लगाकर राजनीति की रोटी सेंक सकती है पर इससे भला नहीं होने वाला है । क्योंकि ऐसी खबरों में कितनी सच्चाई होती है उसे जनता बखूबी समझती है । अगर इन मतभेदों का शिकार कोरोना महामारी जैसे खतरों को भी बनाएंगे तो इसका काला स्वरूप सामने आएगा । क्योकि कोरोना को हराना है तो इस महामारी से साथ मिलकर लड़ा जा सकता है । एक दूसरे की टांग पकड़कर खींचने से कुछ हासिल नही होने वाला ।अलबत्ता हमारा अर्थतंत्र बुरी तरह बिगड़ रहा है और बच्चों जैसी नादानी में हम सड़कों पर आ जाएंगे । राष्ट्रीय समस्या का मुकाबला हम मिलकर करें तो बेहतर परिणाम आएंगे ।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: