Friday, September 17th, 2021

Gwalior Railway Station : अत्याधुनिक एयर टर्मिनल की तर्ज पर होगा ग्वालियर रेलवे स्टेशन का विकास एवं सौंदर्यीकरण


प्रभारी मंत्री सिलावट एवं ऊर्जा मंत्री तोमर ने की रेलवे स्टेशन प्रोजेक्ट की समीक्षा, ग्वालियर शहर में नेरोगेज मेट्रो ट्रेन चलाने के विभिन्न प्रस्तावों पर भी हुई चर्चा
ग्वालियर | 06-अगस्त-20210   NHI ,  अत्याधुनिक एयर टर्मिनल (हवाई अड्डा) की तर्ज पर ग्वालियर रेलवे स्टेशन का विकास एवं सौंदर्यीकरण किया जाएगा। हैरीटेज विरासत की थीम के स्वरूप पर रेलवे स्टेशन आकार लेगा। जिले के प्रभारी मंत्री एवं जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट और ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने रेलवे स्टेशन के सौंदर्यीकरण व विकास के लिये तैयार किए गए प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द रूप देने के लिये वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चर्चा की। साथ ही ग्वालियर शहर में महानगरों की तर्ज पर विशेष मेट्रो ट्रेन के प्रस्ताव पर भी गहन विचार-विमर्श किया।
नईदिल्ली से आईआरएसडीसी की सलाहकार श्रीमती पारोमिता रॉय ने ऑनलाइन प्रजेण्टेशन के जरिए ग्वालियर रेलवे स्टेशन के विकास से संबंधित विविध पहलुओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। लगभग 240 करोड़ रूपए लागत के रेलवे स्टेशन के इस प्रोजेक्ट को पीपीपी मॉडल पर मूर्तरूप दिया जाएगा।
    शुक्रवार को यहाँ कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा यादव, भाजपा जिला अध्यक्ष शहर श्री कमल माखीजानी व ग्रामीण श्री कौशल शर्मा, पूर्व विधायक श्री रामबरन सिंह गुर्जर व श्री मदन कुशवाह, जिला पंचायत प्रशासकीय समिति के उपाध्यक्ष श्री शांतिशरण गौतम व श्री मोहन सिंह राठौर सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा नगर निगम आयुक्त श्री शिवम वर्मा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री किशोर कान्याल एवं स्मार्ट सिटी की सीईओ श्रीमती जयति सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।
    प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने प्रोजेक्ट पर चर्चा के दौरान निर्देश दिए कि रेलवे स्टेशन के सौंदर्यीकरण को इस प्रकार से आकार दें, जिससे ग्वालियर का हैरीटेज स्वरूप निखरकर सामने आए। उन्होंने जल्द से जल्द इस प्रोजेक्ट को धरातल पर लाने पर बल दिया।
    आईआरएसडीसी की सलाहकार श्रीमती पारोमिता रॉय ने बैठक में जानकारी दी कि रेलवे स्टेशन के प्रोजेक्ट के लिए एयर फोर्स और एएसआई (आर्कोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया) की अनुमति मिल चुकी है। रेलवे से अनुमति की औपचारिकताएँ पूरी होने के बाद जल्द ही इसका टेण्डर जारी किया जाएगा। रेलवे स्टेशन में आगमन व प्रस्थान के लिए अलग-अलग टर्मिनल रहेंगे। अत्याधुनिक पार्किंग व कॉमर्शियल स्पेस का प्रावधान भी प्रोजेक्ट में किया गया है।
    कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि नए रेलवे स्टेशन के प्रोजेक्ट के तहत बनाए जाने वाले कॉमर्शियल परिसर में स्टेशन के दुकानदारों को दुकानों के आवंटन में छूट का विशेष प्रावधान करें। ज्ञात हो स्टेशन बजरिया की दुकानों को पुनर्स्थापित करने का प्लान स्टेशन के प्रोजेक्ट में शामिल है। बैठक में अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी अपने सुझाव दिए।

कलकत्ता की ट्राम की तर्ज पर ग्वालियर शहर में मेट्रो ट्रेन चलाने का प्रस्ताव
    प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट की मौजूदगी में ग्वालियर शहर में नेरोगेज ट्रेन संचालन के विभिन्न विकल्पों पर भी बैठक में चर्चा हुई। आईआरएसडीसी की सलाहकार श्रीमती पारोमिता रॉय ने मेट्रो ट्रेन के तीन विकल्प साझा किए। इसमें से कलकत्ता शहर की ट्राम की तर्ज पर बनाए गए मेट्रो निओ प्रोजेक्ट पर सभी जनप्रतिनिधियों ने सहमति जताई। प्रस्तावित मेट्रो निओ प्रोजेक्ट में मोतीझील तक चलाने का प्लान शामिल किया गया है। इस मेट्रो मार्ग में खेड़ापति कॉलोनी, गोपाचल पर्वत, फूलबाग, शिंदे की छावनी, जनकताल सहित अन्य स्टेशन विकसित करने का प्रावधान किया गया है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: