Wednesday, September 22nd, 2021

HAPPY FRIENDSHIP DAY 2021 :- ज़िन्दगी का अनमोल और खुबसूरत तोहफा होती है -सच्ची दोस्ती

दोस्ती खुदा का दिया वो नायब तोहफा है जो इंसान के चेहरे पर ताउम्र मुस्कान को बनाए रखता है।
न्यूज़ हसल इंडिया,(प्रियंका घाटगे, रायपुर)
दोस्ती खुदा का दिया सबसे सुन्दर तोहफा है। जिसे सच्ची दोस्ती मिल गई वह दुनिया का सबसे खुशकिस्मत इंसान होता है। जरूरी नहीं कि दोस्ती में उम्र का बंधन हो, अमीर और गरीब की दीवार हो या भावनाओं के साथ कोई खिलवाड़ हो। एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते ऐसी बातें हो। जीवन में हर इंसान के लिए एक अच्छा और ईमानदार दोस्त बनाना बहुत ही आवश्यक होता है। ज़िंदगी में एक दोस्त ही होता है। जिससे हम अपने दिल की बात बिना किसी झिझक के हमेशा साफ साफ शब्दों में बता सकते हैं और हमारा दोस्त ही हमारी बातों को अच्छी तरह समझ कर हमारी सहायता करने के लिए हमेशा एक कदम हमसे आगे ही रहता है। पुराने समय से ही दोस्ती एक बहुत ही सुन्दर उदाहरण हमें कृष्ण और सुदामा की दोस्ती से देखने को मिलता है। सुदामा ने कृष्ण से चने की बात को छपाई ,जिसके कारण सुदामा को गरीबी की सजा मिली तो वही कृष्ण ने उसी सुदामा की पत्नी के दिए चावल के दानों के बदले तीनों लोकों को उनके नाम कर दिया। जीवन में दोस्ती का सबसे अच्छा दिन वह होता है। जब इंसान बचपन में बिना किसी तनाव के अपने दोस्त के साथ खेल खेलकर आनंद लेता है। बड़े होने पर एक लड़के को घर की जवाबदारी तो एक लड़की को शादी के बाद अपने सभी जिम्मेदारियों के चलते अपनी सखी सहेलियों से दूर होना पड़ता है। इन दूरियों के बाद भी आज भी बहुत से लोग हैं जो अपनी दोस्ती को लम्बे समय से सच्चे दिल से निभा रहे हैं। आइये देखते है दोस्ती के अनेक रूपों को जिनके बारे सुनकर आपको भी बहुत ही अच्छा लगेगा –
पुस्तकों से दोस्ती – कहते हैं पुस्तक ही इंसान का सबसे सच्चा दोस्त होता है। यदि इंसान को जीवन में प्रगति करना हो या तनाव मुक्त होना हो इन पुस्तकों से अच्छा दोस्त कोई और हो ही नहीं सकता।
मां से दोस्ती – जीवन में मां से अच्छी दोस्त कोई हो ही नहीं सकती क्योंकि वह ही होती है जो अपनी बच्चे को बचपन से ही अपनी परछाई के रूप में देखकर उसके साथ ढेर सारा प्यार करती है। उसके साथ खेलती है और हस्ती है। उसके मन की बात बिना कहे ही समझ लेती है और उसकी सभी समस्याओं का निराकरण कर देती है।
पिता से दोस्ती – बच्चे जब बड़े हो जाते है तो उन्हें एक पिता ही अच्छी तरह समझा कर सही दिशा में मार्गदर्शन देकर जीवन की कड़वी सच्चियों से वाकिफ कराकर उसी जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं।
एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते – यह एक सामान्य से बोलचाल की भाषा में बोला जाने वाले वाक्य है जो अक्सर फिल्मों और टीवी के स्क्रीन पर हमेशा देखा और सुना जा सकता है। दोस्ती हमेशा विचारों से होती है इसलिए कभी भी किसी भी इंसान को गलत नज़रिये से देखना भी गलत होता है। पर इस दोस्ती में एक दोस्त को हमेशा अपनी सीमाओं का ध्यान भी रखना चाहिए। जिससे किसी लड़का या लड़की के फैमली को उनके व्यवहार से बुरा ना लगे। दोस्ती में शालीनता का होना भी जरूरी है।
दोस्ती के लिए समय का होता है खास महत्व – इंसान जीवन में कितना भी व्यस्त हो जाए उसी अपनी दोस्त के लिए समय निकालकर जरूर बात करना चाहिए। इससे इंसान का दिमाग हमेशा तरोताजा रहता है।
दोस्ती का गलत फायदा उठाने से इंसान को हमेशा बचना चाहिए – दोस्त ऐसा हो जो हमेशा आपके सुख और दुःख में साथ दे। समय के साथ बदले ना। बुरे वक्त में उसका साथ जरूर देना चाहिए। आजकल दोस्ती को लेकर आए दिन अख़बारों में कुछ दुःखद खबर भी देखने को और पढ़ने को मिलती है लेकिन दोस्त को हमेशा अपने अनमोल ख़जाने की तरह सहेज कर रखना चाहिए। ये दोस्त ही होते है जिनके पास कुछ भी ना हो फिर भी हमारे चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान लाने के लिए हमेशा बेताब रहते है। दोस्त है तो जिंदगी को हमेशा जिंदादिली के साथ जीने का मज़ा ही कुछ और होता है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: