Health : 22 जनवरी को ही प्रसव कराने उत्साहित हैं गर्भवती महिलाएं , गुणी संस्कारवान बच्चे की तमन्ना

newshustleindia.com
5 Min Read

Health : देश में गर्भवती माताओं की संख्या करोड़ों में है और हर माताएं चाहती हैं कि उनका बच्चा गुणी विद्वान और संस्कारवान निकले ।

Health : इसके लिए बहुत सी माताएं पहले माह से ही इस प्रयास में लग जाती हैं कि अब एक अच्छे गुणी बच्चे के जन्म के लिए क्या क्या किया जा सकता है । कुछ लोग पंडित से विचार मंथन करते हैं तो कुछ लोग ज्योतिषी के शरण में चले जाते हैं । इसी चक्कर में बहुत सी महिलाएं ठगी का शिकार हो जाती हैं । यह एक तरह से अंधविश्वास को बढ़ावा देने की प्रक्रिया है । अधिकांश बच्चें अब ऑपरेशन से ही होते हैं ऐसे में प्रसव के लिए बहुत से लोग डॉक्टर के ऊपर विश्वास करना चाहते हैं कि वह उनके अनुसार बताए गए तिथि में बच्चे को ऑपरेशन करके जन्म दे देंगे । बहुत से डॉक्टर इस बात पर कोई भरोसा नहीं करते और नियत तिथि पर ही सिजेरियन सेक्शन का प्रसव करते हैं । लेकिन कुछ ऐसे भी डॉक्टर होते हैं जो गर्भवती महिलाओं की बात रखने उनकी द्वारा सुझाए तिथि पर ही बच्चे को जन्म देते हैं । मां इससे बहुत खुश हो जाती है कि अब उसका बच्चा बहुत गुणी होशियार और संस्कार वान निकलेगा । पर यह तो आने वाला समय बताता है कि उसका बच्चा कैसा निकलेगा । आज पूरा देश राम मंदिर को लेकर रोमांचित है । 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला गर्भ गृह में स्थापित होंगे जिसके लिए जोर शोर से तैयारियां चल रही है । अब आपको बता दे इस तिथि को लेकर देश की करोड़ो गर्भवती महिलाएं उत्साहित हैं । ये महिलाएं यह चाहती है कि इसके बच्चे का जन्म 22 जनवरी को ही हो । राम को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा गया है और उसके आदर्शों को आत्मसात करने वाला व्यक्ति दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करता है । क्योंकि राम वीरता अखंडता और आज्ञाकारिता का प्रतीक माना गया है । तो यह माना जा रहा है कि 22 जनवरी को जन्म लेने वाला बालक राम के आदर्शों से ओतप्रोत होगा । वह सत्य के मार्ग पर चलेगा और गुणी संस्कारवान निकलेगा । इससे माता पिता का भी नाम रोशन होगा । कल्याणपुर की रहने वाली 26 साल की मालती की दिलवारी की तारीख 17 जनवरी है किंतु वह डॉक्टर से आग्रह कर रही है कि उसकी डीलवारी 22 जनवरी को की जाए । 22 जनवरी इतिहास के पन्नो में दर्ज होने वाला है इस दिन अयोध्या में भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी इसलिए इससे अच्छा शुभ दिन और कोई दूसरा हो नहीं सकता । कानपुर हॉस्पिटल की अनेक गर्भवती महिलाओं ने आवेदन देकर यह आग्रह किया है की 22 जनवरी खास मौके पर ही उनका सिजेरियन सेक्शन प्रसव कराया जाए । इस तरह का मामला कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के स्त्री रोग विभाग के डॉक्टरों के पास आया है । चाहे उनकी प्रसव की तारीख पहले हो या बाद में पर उनका प्रसव 22 जनवरी को ही कराया जाए । ऐसा ये गर्भवती महिलाएं चाहती हैं । जीएसवीएम कॉलेज के स्त्री रोग विभाग की कार्यवाहक प्रभारी सीमा दिवेदी ने एक न्यूज चैनल को बताया है कि उन्हें एक लेबर रूम में करीब 14 प्रसव के लिए लिखित आग्रह प्राप्त हुआ है । उनके हॉस्पिटल में 22 जनवरी को 35 प्रसव कराने की व्यवस्था की जा रही है । यह तो सिर्फ कानपुर की एक हॉस्पिटल की बात हुई ऐसा ही देश के सभी अस्पतालों में गर्भवती महिलाएं अनुरोध कर रहीं हैं । पूरे देश में इनकी संख्या करोड़ों में हो सकती है ।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *