Chhattisgarh : राजिम में खंडोबा उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया गया, देश प्रदेश से बड़ी संख्या में पहुंचे थे लोग

News Hustle India
3 Min Read

छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध तीर्थस्थल राजिम में आज मराठा समाज के खंडोबा मंदिर का 24 वा स्थापना दिवस बड़े धूमधाम से मनाया गया । यह मंदिर मराठों के इष्टदेव देवाधिदेव श्री खंडोबा एवम इष्टदेवी मां तुलजा भवानी का है । वर्ष 2000 में इस मंदिर की स्थापना की गई । छत्तीसगढ़ के मराठों के सहयोग से इस मंदिर की स्थापना हुई है । राजिम एक तीर्थ स्थल है । यहां तीन नदियों का संगम है इसलिए इसे प्रयागराज का दर्जा प्राप्त है। लाखों लोग यहां अपने स्वर्गवासी परिजनों का अस्थि विसर्जन करने आते हैं । हर साल यहां कुंभ मेला भी लगता है । यह माघ पूर्णिमा से महाशिवरात्रि तक चलता है । यहां सभी समाज का मंदिर है सिर्फ मराठा समाज का ही नहीं था इसलिए मराठों ने श्री खंडोबा मंदिर की स्थापना की है । अब यह मंदिर बहुत भव्य रूप में आकार ले लिया है । हर साल मराठा समाज का वार्षिक उत्सव अर्थात स्थापना दिवस मकर संक्रांति के बाद पहले रविवार को मनाया जाता है । जिसमे छत्तीसगढ़ के मराठों के अलावा महाराष्ट्र मध्यप्रदेश उड़ीसा से भी बड़ी संख्या में मराठे आते हैं । यहां सब भगवान खंडोबा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और अपने को धन्य करते हैं । इस साल आज रविवार 21 जनवरी को स्थापना दिवस मनाया गया जिसमे महासमुंद के सांसद मुख्य अतिथि बतौर शामिल हुए । सुबह भगवान का अभिषेक किया गया । दोपहर 11 बजे महिलाओं का हल्दी कुमकुम रखा गया तथा एक बजे विवाह योग्य वर वधु परिचय सम्मेलन हुआ । जिसमे बड़ी संख्या में प्रतिभागी ने हिस्सा लिया । अपरान्ह तीन बजे मुख्य अतिथि का उद्बोधन हुआ । मुख्य अतिथि सांसद चुन्नी लाल साहू ने कहा की मराठों का गौरव शाली इतिहास रहा है । छत्तीसगढ़ में भी मराठा शासन रहा है । बिंबाजी राव भोसले अंतिम शासक रहें हैं । उनकी राजधानी रतनपुर थी । उन्होंने कुशल शासन चलाया और बागबाहरा के पास नर्रा में अपने प्राण त्याग । उनकी समाधि आज भी वहां है । मराठों ने हमेशा वीरता का परिचय दिया है । शिवाजी महाराज ने हिंदू साम्राज्य की स्थापना की । अगर शिवाजी महाराज नहीं होते तो देश का क्या हाल होता इसकी कल्पना नहीं की जा सकती । कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री राघोबा महादिक ने राजिम में हो रहे मराठा समाज के कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। मराठा समाज के पूर्व अध्यक्ष राजेश माहादिक ने भी सभा को संबोधित किया । इस अवसर पर महासमुंद रायपुर कसडोल धमतरी के अध्यक्ष उपस्थित थे । मराठा युवा समाज के अध्यक्ष लोकेश पवार ने भी सभा को संबोधित किया । अंत में बच्चों का सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ । बच्चों को प्रवीणता के पुरुस्कार भी दिए गए । बड़ी संख्या में मराठा परिवार राजिम पहुंचे हुए थे ।

TAGGED:
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *