Chhattisgadh : छत्तीसगढ़ में पड़ रही कड़ाके की ठंड, गरीबों के लिए अलाव ही सहारा

News Hustle India
3 Min Read

इन दिनों छत्तीसगढ़ में कड़ाके की ठंड पड़ रही है । पिछले एक हफ्ते से शीत लहर है और ठिठुरन बढ़ गई है । बहुत दिनों के बाद इस बार ठंड ने जोर पकड़ा है । पूरा दिसंबर बिना ठंड के निकल गया यहां तक कि 14 जनवरी मकर संक्रांति में भी उतनी ठंड नहीं थी जितनी आज है । यहां अभी सरगुजा अंबिकापुर साइड में भारी ठंड है तो वहीं बस्तर में भारी जंगल होने के बाद भी सबसे ज्यादा ताप मान बना हुआ है । आज अंबिकापुर में न्यूनतम करीब सात डिग्री तापमान है तो वहीं दंतेवाड़ा बीजापुर में अधिकतम 27 डिग्री तापमान है । 20- 21 जनवरी को छत्तीसगढ़ में पानी गिरा जिससे ठंड बढ़ गई और अभी तक ठंड बनी हुई है । ठंड से गरीबों की बड़ी आफत है वे लोग सड़क किनारे अलाव तापकर दिन गुजार रहें हैं। नगर निगम ने ठंड को देखते हुए अलाव का इंतजाम किए है । जहां नहीं है वहां किसी भी तरह अलाव की व्यवस्था कर रहें हैं । बहुत से दान दाताओं ने गरीबों के ऊपर मेहरबानी भी की है । वे लोग गरीबों को कंबल भी बांटें हैं । किंतु यह स्थिति सभी जगह नहीं है । स्कूलों के समय बदलने की मांग ठंड को देखते हुए की जा रही है । मौसम विभाग ने 28 तारीख के बाद मौसफ साफ होने की बात कही है तथा तापमान भी बढ़ेगा । होली के बाद गर्मी पड़ेगी । होली तक अभी इसी तरह ठंड मौसम बने रहने का अनुमान है । लेकिन इतनी ठंड के बाद भी अभी भी ऐसे लोग हैं जो खुले आसमान के नीचे सो रहें हैं । ये सब गरीब लोग हैं जो फुटपाथों पर अपना जीवन बिताते हैं । ऐसे बहुत से गरीब अभी भी खुले आसमान के नीचे सोए हुए हैं । सरकार ठंड से बचाने के लिए समस्त निकायों से कहा है की वे सभी निकाय गरीबों को ठंड से बचाने के विभिन्न उपाय करें । नगर निगम नगर पंचायत जगह जगह अलाव की व्यवस्था करें । तदनुरूप नगर निगम ने जगह जगह अलाव की व्यवस्था की है । अभी दो तीन दिन ऐसे ही मौसम रहने का अनुमान है । सुबह के समय ठंड से घना कोहरा भी छाया रहता है जिससे दुर्घटनाएं भी हो रही है ।

TAGGED:
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *