valentine day 14th February: प्यार के इजहार का दिन , बहुत खास होता है दो दिलों के लिए

प्यार पवित्र हो तो कोई दिक्कत नहीं है लेकिन प्रदूषित प्यार से समाज में निराशा और कुंठा आती है

newshustleindia.com
5 Min Read
valentine day 14th February

valentine day 14th February: आज पूरे देश में वेलेंटाइन डे मनाया जा रहा है । यह अपनी तरह की अदभूत और दिलों को मथने वाला पर्व है ।

valentine day 14th February

valentine week: इसे मानने और मनाने वाले लोग प्यार के सागर में डुबकी लगाते हैं ।

यह क्यों मनाया जाता है तो इसकी कहानी जो एक संत और राजा से जुड़ी हुई है सभी जानते हैं । उसे दोहराने की जरूरत नहीं है बस इतना समझ लेना काफी है की या प्यार का इजहार करने का पर्व है जो सिर्फ 14 फरवरी को मनाया जाता है ।

आज के युवा और युवतियां इस पर्व को मनाने में विशेष रुचि लेते हैं । क्योंकि जमाने के साथ देश की सभ्यता और संस्कृति में जो बदलाव आया है उसके पीछे इन्हीं युवाओं की इच्छाशक्ति काम कर रही है ।

इसलिए यह पर्व उनके लिए बहुत खास लेकर आता है । यद्यपि यह एक तरह से प्यार के इजहार का पर्व है इसलिए इसे केवल कपल नहीं बल्कि पति पत्नी और दो दिलों के चाहने वाले लोग भी इसे बखूबी खुबसूरती से मनाने पर विश्वास करते हैं ।

आज के दिन किसी खास जगह पर दो प्रेमी ,पति पत्नी या कपल मिलकर कुछ खास उपहार देकर अपने गाढ़े प्रेम का अहसास एक दूसरे को करते हैं । गिफ्ट फूलों से लेकर अगूंठी तक और इसे भी ऊंचे तक जाते हैं ।

valentine day 14th February

valentine day 14th February: गुलाब का फूल तो भेंट किया ही जाता है

गुलाब का फूल तो भेंट किया ही जाता है पर जब इससे मन नहीं भरता तो शहर के बड़े ज्वेलरी शॉप या बड़े शोरूम भी इनको बहुत भाते हैं । परफ्यूम,गुलाब, साड़ी सूट तो इस जमाने की मामूली बातें हैं ।

उससे ज्यादा आज रोमांटिक होने का मन होता है वह बेहद खूबसूरत लिए होता है ।उसके लिए बड़े बड़े होटल भी बुक किए जाते हैं । गार्डन बाग बगीचों में तो जाते ही हैं

पर अकेले में जो दिल की बात कही जाती है उसके लिए तो होटल ही खास होता है । पति पत्नी तो घर पर ही अपने प्यार का इजहार कर सकते हैं पर प्रेमी जोड़ों को आखिर किसी खास जगह की तलाश तो रहती है ।

valentine day 14th February

valentine day 14th February: आखिर जाएं तो जाएं कहां ?

आखिर जाएं तो जाएं कहां ? 14 फरवरी के इंतजार बहुत तड़फाने वाला होता है इसलिए आजकल मोबाइल इंटरनेट के जमाने में इसकी प्यास उसी से बुझाई जाति है ।

आठ दिन पहले से ही व्हाट्सअप पर संदेशों और शेरों शायरी का आदान प्रदान शुरू हो जाता है । इसके लिए गूगल ने सर्च करके कई संदेश ,फोटो,शेरो शायरी जुटा ली जाती है ।

प्यार का इजहार

और बस उसी प्यार का इजहार एक हफ्ते पहले ही शुरू हो जाता है । कहां आना है कहां जाना है ,क्या खाना क्या पीना है, कहां क्या खरीदना है

और कहां मिलना है कहां ठहरना है ये सारी बाते सब मोबाइल के सोशल मीडिया मंच पर तय हो रही है । और इस पर ही सारे काम काज को अंजाम दिया जाता है ।

प्यार का इजहार कहीं खरनाक न हो जाए

ज्यादा प्यार का इजहार कहीं खरनाक न हो जाए इसलिए प्रशासन इस दिन खास नजर रखता है । वह हर बाग बगीचों में पुलिस की पहरेदारी भी बिठाया जाता है ।

होटलों की चेकिंग

होटलों की चेकिंग की जाती है कहीं प्यार के चक्कर में कोई अनहोनी न हो जाए । फिर भी यह दो दिलों के बीच का मामला होता है इसलिए बहुत सोच समझकर प्रशासन भी काम करता है ।

प्यार पवित्र हो तो कोई दिक्कत नहीं है लेकिन प्रदूषित प्यार से समाज में निराशा और कुंठा आती है इससे बचना भी जरूरी है ।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *