Kisan Andolan : केंद्रीय नेताओं के साथ किसान संगठन की बातचीत देर रात तक जारी, आ सकते हैं कुछ नतीजे

News Hustle India
3 Min Read

किसान आंदोलन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है । पहले दो दौर की बैठक बे नतीजा रहा । अब केंद्रीय मंत्रियों और किसान नेताओं के बीच चल रही तीसरे दौर की बैठक वीरवार-शुक्रवार देर रात तक जारी है। इस बैठक में कुछ नतीजे सामने आ सकते हैं ।  इस बैठक के शुरू होते ही किसानों ने हरियाणा सरकार और पुलिस की ओर से किए गए बल प्रयोग पर कड़ी आपत्ति जताई। इस पर केंद्रीय मंत्री उन्हें समझाते नजर आए। इसके बाद एमएसपी की कानूनी गारंटी सहित अन्य मांगों पर चर्चा शुरू हुई। केंद्रीय मंत्री लखीमपुर खीरी कांड समेत अन्य मांगों पर किसानों के साथ सहमत दिखे, लेकिन एमएसपी की कानूनी गारंटी पर कुछ स्पष्ट नहीं हो पाया।किसान संगठनों ने हरियाणा सरकार की ओर से की गई बैरिकेडिंग और किसानों पर बल प्रयोग का विरोध भी इस बैठक में जताया। किसानों ने दिल्ली का रास्ता खोलने की मांग भी की। इससे पहले भी 8 और 12 फरवरी को वार्ता हो चुकी है, जो कि बेनतीजा रहीं। किसानों की तरफ से एमएसपी की गारंटी और स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट ही मुख्य मांगें हैं। इससे पहले की बैठक में किसानों पर दर्ज पुलिस केस वापस लेने जैसी मांगों पर सहमति बन गई थी। दोनों पक्षों में बैठक शाम 5 बजे शुरू होनी थी, जिसके लिए किसान नेता समय पर मगसीपा भवन पहुंच गए, लेकिन ताज होटल में ठहरे केंद्रीय नेताओं के साथ मुख्यमंत्री मान एवं वित्त मंत्री हरपाल चीमा की बैठक के चलते केद्रीय नेता रात 8 बजे तक ही किसानों के साथ बैठक के लिए पहुंच सके।शंभू सीमा पर एक बार फिर टकराव की स्थिती बन गई। निहंग सिंह की पीठ में रबर की गोली लगी है। वह अस्पताल में उपचाराधीन है। पुलिस फोर्स ने आंसू गैस के गोले भी दागे हैं। बताया जाता है कि कुछ निहंग घग्गर के पुल पर बैरिकेड के पास जाकर पुलिसकर्मियों को ललकार रहे थे। समझाने पर नहीं माने तो पुलिस ने आंसू गैस के गोले और रबर बुलेट का प्रयोग कर उन्हें खदेड़ा।

TAGGED:
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *