Cg Raipur News : कल विश्व शांति महायज्ञ कर करेंगे विधान का समापन

News Hustle India
4 Min Read

रायपुर,’अष्टान्हिका महापर्व पर सिद्धचक्र विधान महामंडल के तहत 1008 आदिनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर मालवीय रोड में आज चल रहे 8 दिवसीय श्री सिद्ध चक्र महामंडल विधान के सातवे दिन विधान के मंडल पर आज कुल 1024 अर्घ्य चढ़ाए गए ट्रस्ट कार्यकारिणी कमेटी के अध्यक्ष संजय जैन नायक एवं मीडिया प्रभारी प्रणीत जैन ने बताया की आज पांडुक शीला में विराजमान भगवान का सर्वप्रथम स्वर्ण कलशों से अभिषेक किया साथ ही रिद्धि सिद्धि सुख शांति प्रदाता शांति धारा करने का सौभाग्य आज कैलाशचंद संदीप कुमार जैन, सुरेश चंद जैन कबीर नगर ,नरेंद्र कुमार निलेश कुमार जैन,सौरभ जैन टैगोर नगर वालो को प्राप्त हुआ शांति धारा पश्चात पश्चात सभी उपस्थित श्रद्धालुओं ने बड़े भक्ति भाव से नृत्य करते श्री जी की संगीतमय आरती की गई।विधानचार्य ब्रह्मचारी विजय भईया (गुणायतन) के सानिध्य में सिद्धचक्र महामंडल के सातवें दिन देव शास्त्र गुरु एवं नंदीश्वर दीप पूजन की गई दिगंबर जैन मंदिर के प्रांगण में चल रहे आठ दिवसीय सिद्धचक्र महामंडल विधान व विश्वशांति महायज्ञ के सातवें दिन शनिवार को 1024 अ‌र्घ्य समर्पित किया एवं सम्पूर्ण विश्व में सुख-समृद्धि की कामना की। साथ ही प्रांगण पर पांडुक शीला में विराजमान श्री सिद्ध यंत्र पर 1024 बार मंत्रोचार से अभिषेक किया गया जो को समस्त पापो का कर्मों का क्षय कारण वाला है इस आयोजित विधान में मंत्रोच्चारण से पुरा पंडाल गूंज उठा इस अवसर पर गुणायतन से पधारे विधानाचार्या विजय भईया ने बताया कि कल सम्पूर्ण विश्व में सद्भावना आपसी प्रेम एवम शांति बने रहे इस उद्देश्य से विश्वशांति महायज्ञ के साथ सिद्धचक्र विधान का समापन होगा जिसमे सभी विधान में भाग लेने वाले हवन कुंड में आहुति डाल विश्व में शांति सद्भावना की मंगलमय कामना कर आहुति डालेंगे उन्होंने बताया कि सिद्ध चक्र एवं अष्टानिका का का क्या महत्व है दस भावो का महापर्व यानी ‘दस लक्षण महापर्व’ एक ऐसा ही शाश्वत पर्व है। यह आत्मा की सर्वश्रेष्ठ सहनशीलता, विनम्रता, सरलता आदि से संबंधित है; जो क्रोध, अहंकार आदि अशुद्ध भावो की समाप्ति के लिए होता है। ऐसा ही एक और त्योहार ‘अष्टान्हिका पर्व’ है जिसमें स्वर्ग के देव साल में तीन बार आठ दिन के लिए नंदीश्वर द्वीप में जिनेंद्र भगवान की अकृत्रिम मूर्तियों की पूजा की जाती है। अष्टान्हिका पर्व में सिद्धो की विशेष भक्ति होती है क्योंकि उन्होंने आठो कर्मो का नाश किया। उनको हज़ारो गुणों को स्मरण करने के लिए सिद्ध चक्र महामंडल विधान किया जाता है श्रीपाल चरित्र ग्रंथ का वाचन कर विधानचार्य विजय भईया ने धर्मसभा में कहा कि हजारों साल पहले मैना सुंदरी नामक महिला ने पहली बार सिद्ध चक्र महामंडल विधान किया था और इसे करने से उसके पति के साथ-साथ सारे गांव का कुष्ठरोग ठीक हो गया था। इसलिए सदैव पवित्र एवं पूरी श्रद्धा के साथ अनुष्ठान या विधान का फल लक्ष्य की प्राप्ति में महत्वपूर्ण भूमिका रखता है। आज इस विधान में श्री महावीर जन्म कल्याणक 2024 के अध्यक्ष जितेंद्र गोलछा कोषाध्यक्ष अमित मूणत एवं महासचिव वीरेंद्र डागा एवं पारस चैनल के डायरेक्टर प्रकाश मोदी दैनिक विश्व परिवार के डायरेक्टर प्रदीप जैन विशेष रूप से उपस्थित थे ट्रस्ट कमेटी एवं विधानाचार्य द्वारा सभी उपस्थित अथितियो का तिलक लगा कर सम्मान भी किया

TAGGED:
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *