Wednesday, December 8th, 2021

भारत-बांग्लादेश सीमा पर मवेशियों की तस्करी के दौरान मुठभेड़, BSF ने दो बांग्लादेशियों को किया ढेर

भारत-बांग्लादेश सीमा (India-Bangladesh Border) पर शुक्रवार तड़के तस्करों द्वारा मवेशियों को सीमा पार (Cattle Smuggling) कराने के दौरान मुठभेड़ हुई. इस दौरान सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवानों ने मुठभेड़ में एक भारतीय सहित दो बांग्लादेशियों (Bangladeshi) को ढेर कर दिया. ये घटना कूचबिहार के सेतई सतभंडारी गांव में हुई. मिली जानकारी के मुताबिक, 12 नवंबर को तड़के 3 बजे बांग्लादेश की तरफ से घुसपैठियों ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया. बांस की मदद से कैंटिलीवर बनाया और इसकी मदद से मवेशियों के सिर की तस्करी करने की कोशिश की.

सीमा पर तैनात BSF जवानों ने घुसपैठियों को पीछे लौटने की चेतावनी भी दी, लेकिन घुसपैठियों ने जवानों की चेतावनियों को अनसुना कर दिया और अपने काम में लगे रहे. इसके बाद BSF के जवानों ने घुसपैठियों को रोकने के लिए गैर-घातक हथियारों का इस्तेमाल किया. लेकिन घुसपैठिये इसके बाद भी पीछे की ओर लौटने को तैयार नहीं दिखे. उन्होंने पीछे हटने के बजाय जवानों पर ही हमला कर दिया. घुसपैठियों लोहे की छड़ों और डंडों से जवानों पर हमला बोला. वहीं, अपनी जान पर बनने के बाद और खतरे को भांपते हुए BSF की यूनिट ने बदमाशों पर गोलियां चलाईं.

मुठभेड़ में घायल हुआ एक BSF जवान

जवानों ने गोलीबारी के बाद खोज अभियान चलाया. इस दौरान उन्हें सीमा पर लगे कंटीले तारों और अंतरराष्ट्रीय सीमा (International Boundary) पर दो अज्ञात घुसपैठियों के शव बरामद हुए. BSF ने बताया है कि इस मुठभेड़ में एक जवान भी घायल हुआ है, जिस पर डंडों से हमला किया गया था. फिलहाल उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. भारत-बांग्लादेश सीमा पर पहले भी इस तरह की घटनाएं सामने आती रही हैं, जहां घुसपैठियों ने मवेशियों की तस्करी करने की कोशिश की है. इस दौरान अक्सर ही घुसपैठियों और जवानों के बीच मुठभेड़ होती रही है.

अगस्त में भी हुई घुसपैठ की घटना

इससे पहले, अगस्त के आखिर में कूचबिहार जिले में मेखलीगंज पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले चंगरबंधा में BSF जवानों ने अवैध रूप में भारत में घुस रहे दो लोगों को ढेर कर दिया था. इन दोनों ने भारत में अवैध प्रवेश के दौरान जवानों को निशाना बनाया. इसके बाद जवाबी कार्रवाई में BSF ने उन्हें ढेर कर दिया. दोनों घुसपैठियों की पहचान बांग्लादेश के पटग्राम के रहने वाले यूनिया अली और मोहम्मद सागर के रूप में हुई. जिस इलाके में घुसपैठ की ये घटना हुई, वहां पर कंटीले तारों को नहीं लगाया है. इसी का फायदा उठाकर ये दोनों भारत में प्रवेश कर रहे थे.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: