Wednesday, September 22nd, 2021

असम के बाद कर्नाटक; बच्चे की मौत पर रिश्तेदारों ने डॉक्टर को बुरी तरह पीटा, डॉक्टर्स एसोसिएशन ने CM से की कार्रवाई की मांग

कर्नाटक एसोसिएशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स (KARD) के सदस्यों ने बुधवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को पत्र लिखकर ऐसी घटनाओं की जांच के लिए राज्य स्तरीय कानूनी सेल गठन करने की मांग की है.

कर्नाटक के चिकमगलुरु में डेंगू से पीड़ित 6 साल के बच्चे की मौत के बाद लोगों ने एक डॉक्टर को बुरी तरह पीट दिया. घटना के बाद पुलिस ने 4 लोगों को हत्या की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया है. 50 साल के डॉ दीपक (पीडियाट्रिक) तारिकेरे के बसावेश्वर पॉली क्लीनिक में काम करते हैं. सोमवार को वे दोपहर करीब 3 बजे साइकिल से लंच करने घर जा रहे थे, तभी उन पर ये हमला हुआ. गंभीर रूप से घायल हुए डॉक्टर का इलाज शिवमोगा के एक अस्पताल में चल रहा है. डॉ दीपक ही डेंगू से पीड़ित 6 साल बच्चे का इलाज कर रहे थे, लेकिन 29 मई को बच्चे की मौत हो गई.

पुलिस के मुताबिक, बच्चे की मौत के लिए परिजन डॉक्टर को जिम्मेदार मान रहे थे इसलिए उनपर ये हमला हुआ. द न्यूज मिनट की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधीक्षक (SP) ने मीडिया को बताया कि बच्चे को बसावेश्वर पॉली क्लीनिक में 25 मई को भर्ती किया गया था. लेकिन उसकी हालत नहीं सुधरी.

उन्होंने बताया, “डॉक्टर ने स्थिति बिगड़ने के बाद बच्चे को शिवमोगा रेफर करने को कहा था. लेकिन 29 मई को बच्चे की मौत हो गई. उनके परिवार वाले मौत से नाराज थे और उन्होंने डॉ दीपक को स्थिति बिगड़ने के लिए जिम्मेदार माना. इसलिए उन्होंने हमला किया.”

इससे पहले 24 मई को भी खबर आई थी कि बेल्लारी में एक कोविड मरीज के परिजनों ने डॉक्टर पर हमला किया. घटना के वीडियो में एक व्यक्ति VIMS अस्पताल के कोविड वार्ड में पत्थर फेंकते हुए देखा जा रहा है. पुलिस ने बताया था कि हमला करने वाले व्यक्ति के पिता का इसी अस्पताल में कोविड का इलाज हुआ था, लेकिन संक्रमण के कारण हुई समस्याओं से बाद में उनकी मौत हो गई थी.

कर्नाटक के डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

कर्नाटक में हेल्थकेयर वर्कर्स पर हो रहे हमलों को लेकर डॉक्टरों ने दुख जताया है. कर्नाटक एसोसिएशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स (KARD) के सदस्यों ने बुधवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को पत्र लिखकर ऐसी घटनाओं की जांच के लिए राज्य स्तरीय कानूनी सेल गठन करने की मांग की है.

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है, “यह बहुत दुखद है कि पिछले 8-10 महीनों में हेल्थकेयर वर्कर्स पर हमले की 12 से ज्यादा घटनाएं ऐसी हुई हैं, जो रिपोर्ट की गईं. इसके अलावा धमकी मिलने, काम में रुकावट डालने और बिना दर्ज किए गए हमले के सैकड़ों मामले हैं. सरकार की यह जिम्मेदारी है कि ऐसी घटनाएं नहीं हों और दोषियों को सजा मिले. राज्य स्तरीय लीगल सेल का गठन इस समस्या का सबसे बढ़िया समाधान है.”

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डॉ सीएन अश्वथनारायण ने इस घटना को लेकर कहा कि जिन्होंने कानून को अपने हाथों में लिया है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और उन्हें सजा होगी. उन्होंने कहा, “हमें कार्रवाई करने और एक कड़ा संदेश देने की जरूरत है. हम इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी से कार्रवाई करेंगे.”

असम में भी डॉक्टर के साथ मारपीट

मंगलवार को असम के होजाई जिले में भी एक कोविड केयर सेंटर पर डॉक्टर के साथ मारपीट की घटना सामने आई थी. इस घटना में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. होजाई के पुलिस अधीक्षक बरुन पुरकायस्थ ने बताया था कि कोरोना वायरस से गंभीर रूप से संक्रमित मरीज की उडाली कोविड केयर सेंटर में मंगलवार दोपहर मौत हो गई थी. उन्होंने बताया, “मरीज की मौत के तुरंत बाद, उसके रिश्तेदारों का एक समूह वहां पहुंचा और डॉक्टर को मारने लगा. मामले की जांच जारी है.”

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें महिलाओं सहित कुछ लोग डॉक्टर को पीटते नजर आ रहे हैं. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र लिखा और डॉक्टर पर हुए हमले में शामिल दोषियों के खिलाफ जल्द कड़ी कार्रवाई की मांग की. वहीं राज्य के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कल ट्वीट कर बताया था, “बर्बर हमले के मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और आरोपपत्र जल्द दाखिल किया जाएगा. मैं खुद जांच पर नजर बनाए हूं और वादा करता हूं कि कानून के तहत न्याय किया जाएगा.”

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: