Tuesday, June 22nd, 2021

MARATHI NATH : मराठी नथ देता है महिलाओं को अट्रैक्टिव एंड ग्लैमरस लुक

रायपुर,(न्यूज़ हसल इंडिया)
हिन्दू संस्कृति हमेशा से ही विभिन्न संस्कृतियों का सुन्दर अद्भुत संगम रहा है। इस संगम में स्त्रियां सदैव ही सम्मान की पात्र रही हैं। महिला ही अपने घर की रौनक होती है। स्त्री का श्रृंगार ही उसका आभूषण होता है। मराठी स्त्रियां अपने विशेष पर्वों और शादी के अवसर पर नाक में नथ का श्रृंगार करती है। उनका यह श्रृंगार किसी को भी मोहित किये बिना नहीं रह सकता है। सभी जाती के लोग अपने- अपने तरीके से सभी त्यौहार और पर्व मनाते हैं। हर त्यौहार का अलग ही महत्व होता है।

आज के समय में हर स्त्री मराठी नथ की दीवानी होती है। यह नथ सोने के सुन्दर तारों पर सुन्दर- सुन्दर रंग बिरंगी मोतियों को पिरोकर बनाया जाता है। इस नथ को पहनकर जब कोई स्त्री तैयार होती है तो उनके सजना की आंखे उन पर से हटने को नहीं देखती है लगता है जैसे प्रेम का दीदार का समय आ गया है। मराठी नथ स्त्रियां मकर संक्रांति पर पहनती है और हल्दी कुमकुम के कार्यक्रम में खूब सज सवरकर अपने पिया के लिए प्यारे प्यारे उखाणे बोलती है।मराठी नथ ने समय के साथ लोगों के दिलों में बहुत ही खास जगह बना ली है।

इतनी खास की आज के समय में दूसरे जाति की महिलाएं भी नथ पहनंना बेहद पसंद करती है। समय की साथ इसकी डिमांड इतनी अधिक बढ़ गई है कि आजकल इसका आर्टिफिशियल नथ भी पहनना लोग काफी पसंद कर रहे हैं। महिलाएं घरों से बड़े ही शौक से ऑनलाइन भी नथ मंगवा रही हैं। इस नथ की कीमत बाजारों 40 – 50 रूपये से 100 से 200 रूपये और अलग अलग वेरायटी के हिसाब से अलग अलग भी होती है।

स्त्रियों के इसी श्रृंगार के चलते बेचारे पतियों को भी अपनी जेब ढीली करनी ही पड़ती है क्या करें शादी के लड्डू खाए है तो उसकी कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी। एक पुरानी कहावत भी है शादी के लड्डू जो खाए वो पछताए और जो ना खाए वो ललचाए। सोलह श्रृंगार का सबसे सुन्दर हिस्सा नथ ही होता है। फिल्मों में माधुरी दिक्षीत नेने ने भी नथ पहनकर खूब डांस कर लोगों की तारीफें लूटी हैं। मुग़ल काल की रानियां भी नथ पहनकर बहुत ही सुन्दर दिखती थी। महारानी जीजाबाई का पारंपिरक रूप जिसमे उन्होंने नथ पहना हुआ है वह भो लोगों को आकर्षित किये बिना नहीं रह पाता है।

One Response

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: