Friday, October 22nd, 2021

Milkha Singh ज़िन्दगी की रेस में अंतिम लाइन क्रॉस करते हुए, बेटा है फेमस गोल्फर, बेटी ने न्यूयॉर्क में किया कई कोरोना मरीजों का इलाज

Milkha Singh ने दुनिया को अलविदा कह दिया, परिवार: बेटा है फेमस गोल्फर, बेटी ने न्यूयॉर्क में किया कई कोरोना मरीजों का इलाज

एथलेटिक्स में भारत का परचम लहराने वाले मिल्खा सिंह ने दुनिया को अलविदा कह दिया. पद्मश्री से सम्मानित मिल्खा सिंह का 91 साल की उम्र में निधन हो गया.

मिल्खा सिंह 4 बार के एशियन चैंपियन रहे थे. उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीता था. वहीं, 1958 के टोक्यो ओलिंपिक में गोल्डन दौड़ लगाई थी. ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में उनकी कामयाबियों के चलते ही उन्हें फ्लाइंग सिख का नाम नवाजा गया था.

मिल्खा सिंह के निधन के बाद देश की कई नामचीन हस्तियों ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है. खेल जगत से लेकर राजनीतिक जगत और उनके फैंस सोशल मीडिया पर अपना दुख प्रकट कर रहे हैं.

उनके परिवार में उनके बेटे गोल्फर जीव मिल्खा सिंह और तीन बेटियां हैं. हाल ही में उनकी पत्नी निर्मल मिल्खा सिंह का भी कोरोना से निधन हो गया था. निर्मल मिल्खा 85 वर्ष की थीं.

वह पंजाब सरकार में खेल निदेशक (महिला) और भारतीय महिला राष्ट्रीय वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान थीं. ऐसे में जानते हैं कि मिल्खा सिंह के जाने के बाद अब उनके परिवार में कौन-कौन हैं…

Read This Also : Milkha Singh : ,नहीं रहे महान धावक मिल्खा सिंह , मोदी ने दुख जताया

Milkha Singh ज़िन्दगी की रेस में अंतिम लाइन क्रॉस करते हुए

जीव मिल्खा सिंह

जीव मिल्खा सिंह भारत के पहले प्रोफेशनल गोल्फर हैं. वे भारत के पहले ऐसे प्रोफेशनल गोल्फर हैं, जिन्होंने 1998 यूरोपियन ट्यूर में हिस्सा लिया था. उन्होंने यूरोपियन ट्यूर में चार इवेंट जीते हैं. साथ ही जीव मिल्खा पहले ऐसे भारतीय भी हैं, जिन्होंने वर्ल्ड गोल्फ रैकिंग में टॉप 100 में अपना स्थान बनाया था. इसके बाद भारत सरकार ने 2007 में उन्हें देश के नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया था.

Milkha Singh ज़िन्दगी की रेस में अंतिम लाइन क्रॉस करते हुए

डॉक्टर मोना सिंह

डॉक्टर मोना सिंह, मिल्खा सिंह की बेटी हैं, जो न्यूयॉर्क में डॉक्टर हैं. पिछले साल कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज करने को लेकर उनकी काफी चर्चा हुई थी, मोना सिंह न्यूयॉर्क के मेट्रोपोलिटन हॉस्पिटल में लोगों का इलाज कर रही हैं. मोना ने पटियाला मेडिकल कॉलेज से पढ़ाई की थी और उसके बाद वो 1980 में अमेरिका चली गई थीं. उन्होंने न्यूजर्सी में एक हॉस्पिटल में इंटर्नशिप की और अभी इमरजेंसी फिजिशियन के तौर पर काम कर रही हैं.

Milkha Singh ज़िन्दगी की रेस में अंतिम लाइन क्रॉस करते हुए

सोनिया सांनवाल्का

सोनिया मिल्खा सिंह की बेटी है. जब मिल्खा सिंह ने अपनी किताब लिखी थी, तब इसकी सह-लेखिका उनकी बेटी सोनिया ही थी. सोनिया और मिल्खा सिंह ने मिलकर द रेस ऑफ माई लाइफ किताब लिखी थी, जिसकी काफी चर्चा हुई थी.

Milkha Singh ज़िन्दगी की रेस में अंतिम लाइन क्रॉस करते हुए

अलीजा ग्रोवर

मिल्खा सिंह की तीन बेटियों में एक बेटी अलीजा ग्रोवर हैं, जो अभी चंडीगढ़ में ही रहती हैं.

हरजाई मिल्खा

हरजाई मिल्खा सिंह के पौत्र यानी बेटे जीव मिल्खा के बेटे हैं. वे भी गोल्फ खेलते हैं और अभी से ही उन्हें कई गोल्फ चेंपियनशिप में हिस्सा लिया है. साल 2017 में उन्होंने साल की कैटेगरी के टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था और अच्छी रैंक भी हासिल की थी.

Read This Also : WTC Final 2021 : Ind Vs Nz : लंच तक इंडिया ने दो विकेट खो कर 69 रन बनाए

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: