Thursday, December 9th, 2021

MP News : ग्रामीणें को नहीं पता था कैसा होता है मच्छर का लार्वा


विभागीय टीम के साथ स्कवॉड के सदस्यों ने किया मच्छररोधी दवा का छिड़काव
दतिया | 19-अगस्त-2021,

9k=

   मच्छरों से ग्राम थरेट के निवासियों के परेशान होने की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरबी कुरेले को सूचना मिली तो उन्होंने इस संबंध में जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. हेमन्त को थरेट में कीटनाशन का छिड़काव करने के निर्देश दिए।
    डॉ. हेमन्त गौतम ने विभागीय टीम के साथ स्पेशल स्कवॉड को थरेट भेजा। जहां सर्वे टीम में शमिल सदस्यों ने थरेट में जगह-जगह मच्छररोधी दवा का छिड़काव किया। जिसमें श्री संजीव गतवार के द्वारा विशेष सहयोग किया।
    सर्वंे के दौरान टीम ने थरेट थाने में कंजरों से जप्त किए गए ड्रमों की जांच की तो इन ड्रमों में भारी संख्या में लार्वा मिला। टीम में शामिल श्री रमेशचंद्र ने पुलिस विभाग के अधिकारियों से इन ड्रमों को अतिशीघ्र खाली कराने एवं उल्टा करके रखबाने की सलाह दी ताकि ड्रमों में बरसात का पानी न भरे और मच्छर का लार्वा न पनपे। इतना ही नहीं ड्रमों के अलावा थाने के आस-पास के क्षेत्र में भी कीटनाशन दवा का स्प्रे किया गया।
    टीम द्वारा मच्छरों का लार्वा बताने पर ग्रामीणजनों एवं थाने के कर्मचारियों ने बताया कि हमें मालूम नहीं था कि यह मच्छर का लार्वा है। जो मच्छर के अण्ड़े से निकलता है इसी लार्वा से आगे चलकर मच्छर बनते है। ग्राीणों ने कहा कि हम भविष्य में मच्छर लार्वा को पानी का कीड़ा न समझकर निरंतर समय-समय पर जांच कर नष्ट करायेंगे।
    टीम ने लार्वा सर्वे के दौरान आमजन को पंपलेट के साथ मच्छरों को नष्ट करने के सामान्य उपाय भी बताए। लोगों को इस बात की भी जानकारी दी कि वह छोटी-छोटी सावधानियां रखकर कैसे मच्छर के काटने से होने वाली बीमारियों से बच सकते है। टीम में सर्वश्री नरेन्द्र अहिरवार, नीरज अहिरवार, अरूण नामदेव, राजकुमार रजक, ओम पकाष, प्रदीप पाल आदि शामिल थे।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: