Wednesday, December 8th, 2021

MP News : विदेशों में भी भोजन का जायका बढ़ायेगी जबलपुर की मटर “जबलपुरी मटर”


जबलपुर | 02-नवम्बर-20210   NHI ,जबलपुर जिले का मटर अब विदेशों में भी भोजन का जायका बढ़ायेगी। अभी तक देश के अन्य राज्यों और बड़े महानगरों को यहां से मटर की आपूर्ति की जाती थी अब दूसरे देशों को भी इसके निर्यात के रास्ते खुल गये हैं। फसल आने पर यहां से मटर दुबई एक्सपोर्ट की जायेगी। वियतनाम भी जबलपुर की मटर के संभावित खरीददारों में शामिल है।
    एक जिला-एक उत्पाद योजना में चयन के बाद से जिला प्रशासन द्वारा कलेक्टर कर्मवीर शर्मा की अगुवाई में जबलपुर की मटर की वैश्विक स्तर पर ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिये किये जा रहे प्रयासों के फलस्वरूप हाल ही में दो बड़ी उपलब्धियां प्राप्त हुई हैं। जहां जबलपुर की मटर का ब्रांड नेम तय हो गया है, वहीं औद्योगिक क्षेत्र उमरिया डुंगरिया स्थित एक निजी प्रसंस्करण इकाई फ्रोजन एग्रो को मटर के एक्सपोर्ट का लाइसेंस भी प्राप्त हो गया है।
     जबलपुर में उत्पादित मटर की पहचान देश और दुनिया मे “जबलपुरी मटर” के नाम से होगी । जबलपुर से बाहर भेजी जाने वाली मटर के हर बेग पर “जबलपुरी मटर” का लोगो लगा होगा । प्रशासन द्वारा उद्यानिकी विभाग से सहयोग से बकायदा इस ट्रेडमार्क (लोगो) का रजिस्ट्रेशन कराया गया है। इस लोगो (ट्रेडमार्क) का मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर मानस भवन में आयोजित जिले के मुख्य समारोह में लोकार्पण किया गया। जबलपुर की मटर को देश और दुनिया में विशिष्ट पहचान दिलाने के लिये मटर उत्पादक किसानों तथा दूसरे राज्यों एवं महानगरों को मटर की आपूर्ति करने वाली फर्मों के बीच समन्वय स्थापित कराया गया है। व्यापारी फर्म किसानों से मंडियों में मटर खरीदेंगीं और “जबलपुरी मटर” के लोगो लगे बेग में उसकी पैकिंग कर बाहर भेजेंगी।
         बता दें कि जबलपुर जिले में प्रतिवर्ष करीब 30 हजार हेक्टेयर से अधिक रकबे में मटर की फसल ली जाती है। यहां करीब 2 लाख 40 हजार मेट्रिक टन मटर की पैदावार होती है और 400 करोड़ रुपये का कारोबार होता है। जबलपुर जिले में मुख्यत: पाटन, शहपुरा, मझौली और पनागर विकासखंड में मटर का उत्पादन किया जाता है। यहां मटर की एपी-3, सीएस-10, पीएसएम-3, पीयू-1 और केए-5 किस्म की मटर बोई जाती है।
जबलपुर की मटर का स्वाद देश के दूसरे राज्यों में उत्पादित मटर की तुलना में ज्यादा मिठास लिये होता है। यहां से देश के प्रमुख महानगरों के अलावा मटर की ज्यादातर आपूर्ति महाराष्ट्र एवं गुजरात सहित दक्षिणी भारत के राज्यों को की जाती है। जबलपुर की सहजपुर स्थित मंडी संभाग की सबसे बड़ी मटर की मंडी है।
       उपसंचालक उद्यानिकी डॉ नेहा पटेल के अनुसार आत्मनिर्भर भारत और आत्म निर्भर मध्यप्रदेश की संकल्पना के अनुसार जबलपुर जिले में एक जिला-एक उत्पाद के लिये मटर का चयन किया गया है। डॉ पटेल ने बताया कि जबलपुर जिले से विदेशों को मटर के निर्यात के लिये कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा के निर्देशन में बनाई गई रणनीति के फलस्वरूप न केवल जबलपुर की मटर को विशिष्ट पहचान मिलेगी साथ ही किसानों को अच्छे उनकी फसल की अच्छी कीमत मिल सकेगी।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: