Wednesday, December 8th, 2021

Mumbai Attack: रिश्तेदार की मौत के बाद भी न थमे NSG प्रमुख के कदम, ऑपरेशन में डटे रहे; बेटे ने बयां की अनसुनी बातें

26/11 Mumbai Attack 13th Anniversary: मुंबई आतंकी हमले को आज 13 साल हो चुके हैं. 26 नवंबर, 2021 भारत में अब तक के सबसे भीषण आतंकी हमले की 13वीं बरसी की तारीख है. हमले को इतने साल बीत जाने के बाद भी जख्म भरे नहीं है. इस ऑपरेशन में आतंकवादियों के खिलाफ पूर्व NSG प्रमुख ज्योति कृष्ण दत्त ने संभाली थी. इस हमले में अपने रिश्तेदार को खोने के बाद भी उनका ऑपरेशन जारी रहा.

कृष्ण दत्त के बेटे से ही जानते हैं इस हमले की कुछ अनसुनी बातें….

हिंदी समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पूर्व NSG प्रमुख ज्योति कृष्ण दत्त के बेटे अनुज ने बताया कि उनके पिता बेहद कम जानकारियों के बावजूद मुंबई हमले के आतंकियों के साथ भिड़ गए थे. अनुज ने बताया कि पिता कृष्ण दत्त इस दौरान न सिर्फ महत्वपूर्ण ऑपरेशन का नेतृत्व कर रहे थे, बल्कि तमाम राजनेताओं, भारत सरकार के अधिकारियों, मीडिया और सुरक्षा खुफिया तंत्र के साथ संपर्क में थे. इसी बीच उनको मालूम हुआ कि ताज होटल के एक कमरे में उनका एक रिश्तेदार हमलावरों के हत्थे चढ़ गया है. उन्होंने ऑपरेशन के दौरान रिश्तेदार की मौत से भी वे(कृष्ण दत्त) विचलित नहीं हुए और आखिर तक ऑपरेशन को जारी रखा.

हर जरूरतमंद से फोन पर पिता ने की थी बात

अनुज कहते हैं कि लोगों में ऐसा भ्रम है कि ऑपरेशन के दौरान पिता सिर्फ सरकारी अधिकारियों और मंत्रियों के फोन अटेंड कर रहे थे, जबकि ऐसा नहीं है वे उस दौरान हर जरूरतमंद से फोन पर बात कर रहे थे. वो उन सभी को ऑपरेशन की जानकारी दे रहे थे कि उनका कौन रिश्तेदारन होटल में फंसा है या उसे रेस्क्यू कर लिया गया है.

अनुज ने बताया कि 1971 IPS-बैच के ज्योति कृष्ण दत्त NSG के चीफ 11 अगस्त 2006 से 28 फरवरी 2009 तक रहे. इसी साल मई माह में कोरोना महामारी से उनकी मौत हो गई थी.

13 साल पहले हुए हमले में 188 लोगों की मौत हुई थी

बता दें, 26 नंवबर 2008 को हुए मुंबई हमले के दौरान 18 सुरक्षाकर्मियों समेत 188 लोगों की मौत हो गई थी. इस हमले में 10 में से 9 आतंकियों का एनकाउंटर हुआ था, जबकि एक आतंकी(कसाब) को गिरफ्तार किया गया था.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: