Friday, July 30th, 2021

MURDER CASE : रिटायर्ड पिता के ग्रैचुइटी फंड की लालच में बेटे का कत्ल

MURDER CASE : छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में मंगलवार सुबह मिले युवक के अधजले शव की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है।

इस मामले में पुलिस ने 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने युवक के रिटायर्ड पिता को मिले फंड की लालच में उसे अगवा किया। फिर पहचाने जाने के डर से उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और शव को जलाने का प्रयास किया। युवक कोरिया जिले से दो दिन पहले लापता हुआ था।

MURDER CASE : एक दिन पहले सुबह मरवाही के जंगल में मिला था शव

जानकारी के मुताबिक, कोरिया में झगराखांड के खोंगापानी निवासी 36 साल का राघवेंद्र पटेल सोमवार को सुबह करीब 11 बजे घर से निकला था। रात में भी युवक जब घर नहीं लौटा तो परिजनों ने अगले दिन मंगलवार को उसकी गुमशुदगी दर्ज करा दी।

उसी दिन मरवाही के सेमरदर्री के जंगल में जली हुई हालत में शव पड़ा देख ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। काफी प्रयासों के बाद देर शाम युवक की शिनाख्त हो सकी थी

कॉल डिटेल और टावर लोकेशन से आरोपियों तक पहुंची पुलिस
राघवेंद्र के मोबाइल नंबर से कॉल डिटेल और टावर लोकेशन का पता किया गया। जांच के दौरान पता चला कि एक नंबर पर कॉल हुई थी। वह नंबर भी साथ में ट्रेवेल कर रहा था। यह नंबर ऋषि रैदास का था।

जिसके रात करीब 12.30 बजे कार से बरौरा बैरियर में मरवाही से झगराखांड की ओर जाने का पता चला। इस पर पुलिस ने ऋषि को हिरासत में लिया और पूछताछ शुरू की। जिसमें आरोपी ने अपने साथियों के साथ वारदात करना स्वीकार कर लिया।

SECL से रिटायर पिता के रुपयों की लालच में बेटे के अपहरण का षड्यंच रचा
पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि राघवेंद्र के पिता SECL से रिटायर हुए थे। इसके चलते उन्हें ग्रैचुइटी और अन्य मद में बहुत रुपए मिले। ऐसे में आरोपियों ने षड्यंत्र रचा कि राघवेंद्र का अपहरण कर फिरौती मांगी जा सकती है।

इसके चलते काजल मन्ना, रविशंकर श्रीवास्तव और ऋषि दास ने राघवेंद्र पटेल को काम के बहाने बिलासपुर चलने की बात कहकर बुलाया और कार में बिठा कर ले गए। चौथा आरोपी संतोष चौधरी स्कूटी से पीछे आया।

जंगल के रास्ते में सभी ने शराब पी, फिर राघवेंद्र का गला घोंट दिया
शहर से निकल कर जंगल के रास्ते में सभी ने शराब पी। आरोपियों ने जान-बूझकर राघवेंद्र को ज्यादा शराब पिलाई। इसके चलते वह बेहोश हो गया। हालांकि आरोपियों को फिर लगने लगा कि राघवेंद्र उन्हें पहचान चुका है।

उसे छिपाना आसान नहीं होगा। यह सोचकर बेहोशी की हालत में ही आरोपियों ने कार के अंदर उसका गमछे से गला घोंट दिया। इसके बाद शव को कार की डिक्की में डालकर पोंडी- खड़गवां के रास्ते GPM पहुंचे और शव जला दिया।

पेट्रोल की बोतल ने कराई युवक के शव की शिनाख्त
पूरी गुत्थी को सुलझाने में शव के पास से मिली खाली पेट्रोल की बोतल बहुत काम आई। पहले तो पुलिस ने ग्रामीणों से शव की पहचान कराने का प्रयास किया। डॉग स्क्वॉयड और फॉरेंसिक टीम भी आई, लेकिन कुछ खास हाथ नहीं लगा।

इस तनिष्क कंपनी की पानी की बोतल मिली। उसमें पेट्रोल की महक आ रही थी। इस कंपनी का पानी अधिकतर बैकुंठपुर, चिरमिरी और कोल माइंस एरिया में मिलता है। ऐसे में राघवेंद्र की फोटो वहां भेजी गई। जिससे उसकी शिनाख्त हो सकी।

इन आरोपियों को किया गया गिरफ्तार
पुलिस ने इस मामले में आरोपी खोंगापानी निवासी ऋषि रैदास सहित बिजुरी के कपिलधारा कालोनी निवासी काजल कुमार मन्ना, खोंगापानी निवासी रविशंकर श्रीवास्तव और संतोष चौधरी को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त कार, एक स्कूटी, गमछा, माचित और मारे गए युवक राघवेंद्र का मोबाइल बरामद किया है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: