Friday, October 22nd, 2021

Navratri 2021 Kalash Sthapana : शारदीय नवरात्रि शुरू, जगह जगह बिराज रहीं मां शेरोवाली

आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि पर हर वर्ष शारदीय नवरात्रि आरंभ हो जाते हैं। इस साल शारदीय नवरात्रि 7 अक्तूबर, गुरुवार से प्रारंभ  हो गए हैं। नवरात्रि पर नौ दिनों के लिए देवी दुर्गा का आगमन पृथ्वी पर होता है और सभी भक्त मां को प्रसन्न करने के लिए नौ दिनों तक विशेष रूप से पूजा आराधना करते हैं और उपवास रखते हैं। इस वर्ष नवरात्रि का पर्व 9 दिनों के बजाय 8 दिनों तक रहेगा। नवरात्रि के पहले दिन प्रतिपदा तिथि पर कलश  स्थापना के साथ देवी दुर्गा के पहले स्वरूप की पूजा आराधना करते हुए नवरात्रि का उत्सव आरंभ हो जाएगा।हिंदू पंचांग की गणना के अनुसार आश्विन शुक्ल प्रतिपदा तिथि का आरंभ 06 अक्तूबर को शाम के 4 बजकर 35 मिनट से शुरू होकर 7 अक्तूबर को दोपहर 1 बजकर 47 मिनट तक रहेगी। ऐसे में 7 अक्तूबर को प्रतिपदा तिथि सूर्योदय के होने के साथ शारदीय नवरात्रि आरंभ हो जाएगा।शारदीय नवरात्रि प्रतिपदा तिथि कब से कब तक
हिंदू पंचांग की गणना के अनुसार आश्विन शुक्ल प्रतिपदा तिथि का आरंभ 06 अक्तूबर को शाम के 4 बजकर 35 मिनट से शुरू होकर 7 अक्तूबर को दोपहर 1 बजकर 47 मिनट तक रहेगी। ऐसे में 7 अक्तूबर को प्रतिपदा तिथि सूर्योदय के होने के साथ शारदीय नवरात्रि आरंभ हो जाएगा।शारदीय नवरात्रि 2021 के लिए कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 
शारदीय नवरात्रि पर प्रतिपदा तिथि पर कलश स्थापना का सबसे अच्छा शुभ मुहूर्त 07 अक्तूबर को अभिजीत मुहूर्त का रहेगा। इस दिन अभिजीत मुहूर्त 11 बजकर 52 मिनट से 12 बजकर 38 मिनट का रहेगा। ऐसे में यह समय कलश स्थापना के लिए सर्वश्रेष्ठ रहेगा। इसके अलावा देवी की आराधना और कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से लेकर 10 बजकर 17 मिनट तक किया जा सकता है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: