Saturday, July 24th, 2021

NewDelhi News : अखिल भारतीय क्रांतिकारी विद्यार्थी संगठन (AIRSO) ने पिंजरा तोड़ कार्यकर्ता नताशा नारवाल की जमानत पर रिहाई पर प्रसन्नता व्यक्त की
जेलों में बंद तमाम विद्यार्थी कार्यकर्ताओं की शीघ्र रिहाई की मांग की

नई दिल्ली, 15 मई 2021,न्यूज हसल इंडिया,
AIRSO ने पिंजरा तोड़ कार्यकर्ता नताशा नारवाल की जमानत पर रिहाई पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उनके लड़ाकू जज्बे का अभिनंदन किया। वे दिल्ली में पिछले साल आरएसएस बीजेपी के मार्गदर्शन में भड़काए हिंसा के झूठे मामले में निरंकुश कानून UAPA के तहत पिछले साल से जेल में बंद हैं। वे दरअसल संघी कॉरपोरेट फ़ासिस्ट मोदी सरकार के खिलाफ CAA/NRC विरोधी आंदोलन में पिंजरा तोड़ कार्यकर्ता के रूप में सक्रिय थीं, जिसका बदला मोदी सरकार उन्हें और अन्य विद्यार्थी कार्यकर्ताओं को लंबे समय तक जेल में सड़ाकर ले रही है। नताशा के पिता वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक और सामाजिक कार्यकर्ता महावीर नारवाल जो नताशा की रिहाई के लिए एक लंबी और तकलीफदेह लड़ाई लड़ रहे थे, हाल ही में कोविड से संक्रमित होकर जिंदगी की जंग हार गए। AIRSO उनको क्रांतिकारी सलाम और भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करती है।
नताशा की तरह जामिया, जेएनयू व दिल्ली विश्वविद्यालय के कई विद्यार्थी जो CAA/NRC विरोधी आंदोलन में सक्रिय थे उन सबके मौलिक अधिकारों को रौंद कर फ़ासिस्ट मोदी सरकार, झूठे मुकदमों में फंसाकर कैद की हुई है।
कोविड की दूसरी खतरनाक लहर के मद्देनजर जिससे पूरे देश में हाहाकार मच गया है, तमाम कैदी जो जेल में बंद हैं संक्रमण के सबसे आसान शिकार बन रहे हैं। लेकिन जुल्मी नकारा फासिस्ट सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है। AIRSO यह मांग करती है कि ऐसी परिस्थिति में वे तमाम विद्यार्थी कार्यकर्ता जो सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध करने के कारण जेल में बंद हैं उन्हें शीघ्र रिहा किया जाए। क्योंकि उनका जीवन खतरे में है। AIRSO तमाम प्रगतिशील विद्यार्थी संगठनों से इस मुद्दे पर एकजुट होकर आवाज उठाने की अपील करती है। यह जानकारीशिशु रंजन संयोजक, दिल्ली कमेटी
अखिल भारतीय क्रांतिकारी विद्यार्थी संगठन (AIRSO) ने मीडिया को दी है ।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: