Friday, October 22nd, 2021

Nidhan : कामरेड शर्मिष्ठा, ए.आई.आर.डब्ल्यू.ओ.की महासचिव, नहीं रही! क्रांतिकारी कम्युनिस्ट आंदोलन के लिए एक बड़ी क्षति।

नईदिल्ली ,न्यूज हसल इंडिया ,स्रोतों के अनुसार वह पिछले 4 महीनों से बीमार थीं। इस बीच उन्हें कोविड भी हुआ लेकिन वह उससे उभरने में कामयाब रहीं। हालांकि उनकी बीमारी बढ़ने के कारण उन्हें कल रात कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती किया गया। आज दोपहर 3 बजे के थोड़ा पहले उन्हें एक गंभीर हार्ट अटैक आया जिनके कारण कुछ क्षण पहले ही उनका निधन हो गया।कॉमरेड शर्मिष्ठा, क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच व जाती उन्मूलन आंदोलन के द्वारा संयुक्त रूप से आरएसएस नवफ़ासीवाद के वैचारिक आधार मनुवादी हिंदुत्व के खिलाफ संचालित अभियान में शरीक थीं और सदा हमें प्रोत्साहित करती थीं।आप साम्राज्यवादी फासीवादी शोषण व पितृसत्तात्मक दमन के खिलाफ पुरुष व स्त्री के समानाधिकार की बिना पर स्त्री मुक्ति के लिए,एक समतावादी समाज के निर्माण के लिए आजीवन अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर पर संघर्ष करती रहीं।

क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच(RCF), क्रांतिकारी योद्धा और नेत्री कामरेड शर्मिष्ठा को भावभीनी श्रंद्धांजलि और लाखों लाल सलाम पेश करते हैं और उनकी पार्टी व संगठन के सभी कामरेडों के साथ अपनी एकजुटता प्रकट करते हैं।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: