Wednesday, September 22nd, 2021

PM Garib Kalyan Ann Yojna : P M Modi ने शुभारंभ करते हुए कहा – गरीबों के लिए कुछ न कुछ करते रहने से मुझे ताकत मिलती है


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश का दसों दिशाओं में विकास हुआ: मुख्यमंत्री श्री चौहान, प्रदेश के 1 करोड़ 15 लाख परिवारों को नि:शुल्क राशन प्रधानमंत्री श्री मोदी ने किया नि:शुल्क राशन वितरण कार्यक्रम को संबोधित
रतलाम | 07-अगस्त-20210प्रधानमंत्री श्री मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत आयोजित अनाज वितरण कार्यक्रम के लिए बधाई देते हुए कहा कि लगभग 5 करोड़ हितग्राहियों को मध्यप्रदेश में योजना में एक साथ अनाज उपलब्ध कराने का बड़ा अभियान चल रहा है। इस कार्यक्रम ने मुझे गरीबों के बीच बैठकर बात करने का मौका दिया है। इससे गरीबों के लिए कुछ न कुछ करते रहने की मुझे ताकत मिलती है। यह दु:खद है कि प्रदेश के कई जिलों में अति वर्षा और बाढ़ से लोगों का जीवन और आजीविका प्रभावित हुई है। केन्द्र सरकार प्रदेश की जनता के साथ है। मुख्यमंत्री श्री चौहान और उनकी पूरी टीम राहत और बचाव के हरसंभव कार्य कर रही है। केन्द्र सरकार की ओर से भी सभी आवश्यक सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।
प्रधानमंत्री श्री मोदी मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में आयोजित नि:शुल्क राशन वितरण कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने योजना के हितग्राही सतना के दिलीप कुमार कोरी, निवाड़ी के चंद्र बदन विश्वकर्मा, होशंगाबाद की माया धुर्वे और बुरहानपुर के राजेंद्र शर्मा से वर्चुअली संवाद भी किया।
25 हजार 435 उचित मूल्य की दुकानों पर हुआ कार्यक्रमकार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने की। खाद्य मंत्री श्री बिसाहूलाल सिंह तथा सहकारिता मंत्री श्री अरविंद भदौरिया भी मिंटो हॉल में इस कार्यक्रम में उपस्थित थे। उत्तराखंड के पूर्व मंत्री श्री सुदेश जोशी तथा मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह भी मंच पर उपस्थित थे। कार्यक्रम में लघु फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।
कार्यक्रम के अंतर्गत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत मिलने वाले नियमित राशन के साथ 5 किलो गेहूँ और चावल हितग्राहियों को मुफ्त उपलब्ध कराया जा रहा है। यह खाद्यान्न राशन थैले में प्रदान किया जा रहा है। प्रदेश के 1 करोड़ 15 लाख परिवार इस खाद्यान्न वितरण से लाभान्वित हो रहे हैं। कार्यक्रम प्रदेश की सभी 25 हजार 435 उचित मूल्य की दुकानों पर आयोजित किया गया।
प्रधानमंत्री ने की मध्यप्रदेश की प्रशंसाप्रधानमंत्री श्री मोदी ने मध्यप्रदेश की प्रशंसा करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने किसानों को मदद पहुँचाने की दिशा में सराहनीय कार्य किया है। प्रदेश में किसानों ने रिकार्ड उत्पादन किया और राज्य शासन ने एमएसपी पर रिकार्ड मात्रा में खरीद की व्यवस्था भी की। मध्यप्रदेश में गेहूँ की खरीद के लिए देश में सबसे अधिक खरीद केन्द्र बनाए गए। राज्य सरकार ने 17 लाख से अधिक किसानों से गेहूँ खरीदा और उनके खातों में 25 हजार करोड़ रूपए सीधे पहुँचाये।
डबल इंजन सरकार लाभकारीप्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि डबल इंजन सरकार का सबसे बड़ा लाभ यही है कि केन्द्र सरकार की योजनाओं को राज्य सरकार और सँवार देती है। इससे योजनाओं की ताकत बढ़ती है। मध्यप्रदेश में स्किल डेव्हलपमेन्ट, स्वास्थ्य क्षेत्र में अधोसंरचना निर्माण, डिजिटल इन्फ्रा-स्ट्रक्चर, रेल तथा रोड कनेक्टिविटी आदि क्षेत्रों के कार्यों में अभूतपूर्व गतिशीलता है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश, बीमारू राज्य की अपनी पहचान से मुक्त हुआ है। मध्यप्रदेश के शहर स्वच्छता और विकास में नए उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं।
कोरोना 100 साल में आयी सबसे बड़ी आपदाप्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि कोरोना 100 साल में आयी सबसे बड़ी आपदा है। हमारे देश की जनसंख्या अधिक होने के कारण हमें कई मोर्चों पर एक साथ लड़ना पड़ा। हमें स्वास्थ्य क्षेत्र में अधोसंरचना तैयार करने के साथ करोड़ों लोगों को राशन पहुँचाने, उनके रोजगार की व्यवस्था करने जैसी चुनौतियों का भी सामना करना था। इन परिस्थितियों में सर्वोच्च प्राथमिकता गरीब को दी गई। 80 करोड़ से अधिक व्यक्तियों को नि:शुल्क राशन पहुँचाने के साथ 08 करोड़ लोगों को गैस और 20 करोड़ से अधिक महिलाओं के जन-धन खातों में 30 हजार करोड़ रूपए ट्रांसफर किए गए। श्रमिकों और किसानों के बैंक खातों में भी हजारों करोड़ रूपए सीधे जमा कराए गए। इसी क्रम में दूसरे राज्यों में काम कर रहे श्रमिकों के लिए “वन नेशन-वन राशन कार्ड” की व्यवस्था की जा रही है। पीएम स्वनिधि योजना में आसान बैंक ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है।
50 करोड़ वैक्सीन लगाने की मंजिल पारप्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि कोरोना काल में हमने अपने देश में बनी वैक्सीन के लिए विशेष प्रयास किए। यह बड़ी उपलब्धि है कि देश में 50 करोड़ वैक्सीन लगाने की महत्वपूर्ण मंजिल को पार कर लिया गया है। टीकाकरण में हमें अपनी गति को और बढ़ाना है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: