Saturday, July 24th, 2021

विधायकों के साथ स्वर्ण मंदिर पहुंचे Navjot Singh Siddhu

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddhu) ने पार्टी के विधायकों को अपने अमृतसर आवास पर नाश्ते के लिए बुलाया है. करीब 62 कांग्रेस विधायक उनके आवास पर पहुंचे. जिसके बाद मंत्रियों-विधायकों के साथ सिद्धू स्वर्ण मंदिर पहुंचे. सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Amrinder Singh) से माफी मांगने के सवाल पर कांग्रेस विधायक परगट सिंह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू को सीएम से माफी क्यों मांगनी चाहिए. उन्होंने कहा कि माफी मांगना कोई सार्वजनिक मुद्दा नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कई ऐसे मुद्दे हैं जिनका समाधान सीएम ने नहीं किया है.ऐसे में उल्टा उन्हें जनता से माफी मांगनी चाहिए.

सिद्धू के अध्यक्ष बनने के बाद से ही सीएम अमरिंदर के खेमे से नेताओं के टूटने का सिलसिला जारी है. अमरिंदर सिंह के करीबी कहे जाने वाले राजकुमार वेरका भी सिद्धू ग्रुप में आ गए हैं. उधर कैप्टन अभी भी टकसाली नेताओं को अपने खेमे में लाने की कोशिश कर रहे हैं. दूसरी ओर वरिष्ठ कांग्रेस नेता और कैबिनेट मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाए जाने के स्वागत किया है. लेकिन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ मामले को निपटाने तक सिद्धू से निजी मुलाकात करने से मना कर दिया है.

सीएम अमरिंदर ने दिखाए हैं तेवर

बता दें कि हाईकमान की तरफ से सिद्धू को सपोर्ट मिलने के बावजूद भी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अभी हार नहीं मानी है. हाल ही में यह बात सामने आई थी कि कैप्टन अमरिंदर से नवजोत सिंह सिद्धू ने मिलने का समय मांगा है. हालांकि कैप्टन खेमे ने इस बात से मंगलवार को साफ़ इनकार कर दिया. सीएम के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने ट्वीट कर कहा कि, “ऐसी रिपोर्ट आ रही है कि नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाकात का समय मांगा है, जो पूरी तरह गलत है. किसी भी तरह का कोई समय नहीं मांगा गया है और न ही मुख्यमंत्री नवजोत सिंह सिद्धू से तब तक मुलाकात करेंगे जब तक वह सार्वजनिक तौर पर उनसे माफी नहीं मांग लेते हैं.”

सूत्रों के मुतबिक सिद्धू के प्रदेश अध्यक्ष बनने से राज्य में कांग्रेस पार्टी दो हिस्सों में बंट गयी है. हालांकि सिद्धू ऐसा बिलकुल नहीं चाहते कि उनके अध्यक्ष बनते ही पार्टी को इस तरह का नुकसान हो. बीते कई दिनों से इसलिए ही सिद्धू लगातार सीनियर लीडर्स और मंत्रियों से मुलाक़ात कर रहे हैं. सिद्धू की इस पहल का असर भी नज़र आ रहा है और पार्टी के कई बड़े नेताओं ने उनका समर्थन किया है. उधर सीएम अमरिंदर की चुप्पी भी सवालों के घेरे में है. भले ही उन्होंने मीडिया सलाहकार के जरिए संदेश दे दिया हो लेकिन उनकी चुप्पी के पीछे कोई बड़ी योजना भी छुपी हो सकती है

Photo – Ani

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: