Thursday, May 19th, 2022

Punjab Election 2022 Date: पंजाब में 14 फरवरी को डाले जाएंगे वोट, 117 सीटों पर एक ही चरण में मतदान

चुनाव आयोग ने पंजाब विधानसभा चुनाव की तिथि का एलान कर दिया है। यहां एक चरण में 14 फरवरी को मतदान होंगे। वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी। आयोग ने बताया कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई तरह के एहतियात बरते जाएंगे। पिछली बार यहां चार फरवरी 2017 को मतदान हुआ था और 11 मार्च 2017 को नतीजे आ गए थे। 

पंजाब चुनाव का शेड्यूल

  • अधिसूचना- 21 जनवरी 
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 28 जनवरी
  • नामांकन की जांच- 29 जनवरी
  • नाम वापसी- 31 जनवरी
  • मतदान- 14 फरवरी 

इस बार बदले होंगे कई राजनीतिक समीकरण
2017 के मुकाबले इस बार के चुनाव में पंजाब में बहुत कुछ बदला होगा। तब सत्ता में भाजपा-अकाली का गठबंधन था। अब ये दोनों अलग-अलग गठबंधन में हैं। भाजपा ने कैप्टन अमरिंदर की नई पार्टी के साथ गठबंधन किया है। वहीं, अकाली दल बसपा के साथ है। 2017 में कैप्टन कांग्रेस का चेहरा थे। इस बार वे कांग्रेस के खिलाफ हैं। तब सिद्धू नए-नए कांग्रेस में आए थे, इस बार सिद्धू कांग्रेस का सबसे बड़ा चेहरा हैं। तब चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के कई बड़े चेहरे चुनाव से पहले और बाद में अलग हो गए थे। इस बार आम आदमी पार्टी चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में जीत से उत्साहित है। 

2017 में भाजपा से कांग्रेस में आए सिद्धू
पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस में शामिल हुए थे। 15 जनवरी 2017 को राहुल गांधी ने उन्हें कांग्रेस में शामिल कराया था। 5 साल बाद वे कांग्रेस के सबसे बड़े चेहरे बनकर उभरे हैं। सिद्धू की वजह से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह को न सिर्फ मुख्यमंत्री पद से हटना पड़ा, बल्कि उन्होंने कांग्रेस छोड़कर नई पार्टी बना ली।

मुख्यमंत्री पद के चेहरे

चरणजीत सिंह चन्नी:  मौजूदा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शामिल हैं। पार्टी उन्हें आगे भी मुख्यमंत्री बनाए रखने की बात कर रही है। हालांकि, नवजोत सिद्धू लगातार खुद को अगले चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा बनाए जाने के लिए दबाव डाल रहे हैं।   
सुखबीर बादल: अकाली दल की ओर से सुखबीर बादल मुख्यमंत्री पद का चेहरा होंगे। 2012 से 2017 तक वो राज्य के उप-मुख्यमंत्री रह चुके हैं। पिता प्रकाश सिंह बादल की उम्र के चलते अब वो ही पार्टी का चेहरा हैं।  
कैप्टन अमरिंदर सिंह: नई पार्टी बनाकर कैप्टन ने भाजपा के साथ समझौता करने का एलान किया है। दोनों पार्टियों ने अब तक सीट बंटवारे पर फैसला नहीं लिया है। सीट बंटवारे के साथ ही कैप्टन को गठबंधन का चेहरा भी बनाया जा सकता है। 

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: