Friday, October 22nd, 2021

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

Rahul Gandhi Birthday : न्यूज़ हसल इंडिया (आदित्य घाटगे) देश ही नही यदि विश्व में भी युवा शक्ति पर बात की जाए तो राहुल गांधी के नाम के बिना बात अधूरी रहेगी । 19 जून आज वही युवा राहुल गांधी का जन्म दिन है और पूरे देश के युवा उनको बधाई दे रहें हैं ।

राहुल गांधी की पहचान जरूर नेहरू गांधी खानदान से है पर युवाओँ को प्रेरित करने वाली उनकी शक्ति की पहचान उंन्होने खुद अपनी मेहनत से स्थापित की है । यह कहना एकदम गलत होगा कि गांधी परिवार और राजनीतिक ताकत के जरिये उनके पीछे भीड़ भागती है ।

hdfishi

बल्कि वे खुद अपने जज्बे से एक युवा आकर्षण के केंद्र बने हुए हैं यही कारण है कि उनकी एक आवाज लाखों युवा इकठे हो जाते हैं । यह चमत्कारिक गुण केवल भारत में ही नही चलता बल्कि विदेशों में भी वे अपनी लोकप्रियता के शिखर पर रहते हैं ।

यह बात अलग है कि पूरा नेहरू परिवार एक राजनीतिक वातावरण में ढला हुआ चला आ रहा है और उसकी कीमत भी बलिदानों से चुकानी पड़ी है । राहुल के पिता राजीव गांधी और दादी श्रीमतीं इंदिरा गांधी की हत्या प्रधानमन्त्री पद पर रहते हुए हुई ।

दादी को तो उसके  संतरी ने ही गोली मारी और पिता को बम से उड़ा दिया गया बावजूद गांधी परिवार ने देश की सेवा को ही सर्वोपरि माना है और आज भी मां सोनिया गांधी ,बहन प्रियंका गांधी वाड्रा राजनीतिक क्षितिज पर देश से जुड़े हुए हैं ।

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

Rahul Gandhi Birthday : युवा शक्ति का उदय

राहुल गांधी का जन्म तो 19 जून 1970 को नईदिल्ली में हुआ । इनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री व माता श्रीमतीं सोनिया गांधी ने होनहार पुत्र पाकर बेहद खुशियां बिखेरी । इनकी दो संताने हुई एक राहुल गांधी और दूसरी पुत्री प्रियंका गांधी ।

राहुल बड़े है और प्रियंका छोटी है । भाई बहन का अद्भुत प्यार अभी भी कायम है । लेकिन विडम्बना बच्चों के बाल्यावस्था में ही पिता का साया सर से उठ गया । मां सोनिया गांधी के आंचल तले दोनों का लालन पालन और शिक्षा हुई ।

पिता जरूर चले गए पर बच्चों के लिए साहस छोड़ गए । पिता का साहस और आशीर्वाद रहा कि वह आज हजार खतरों के बाद भी राजनीतिक सितारे हैं और देश की सेवा में लगे हैं । इनकी दादी मां यानी श्रीमतीं इंदिरा गांधी भी साहस की प्रतीक थी ।

पूरी दुनिया ने इंदिरागांधी का लोहा माना । साहस का यह सिलसिला नेहरू गांधी खानदान में परंपरागत चला आ रहा है । देखिए आज प्रियंका गांधी भी राजनीतिक क्षितिज पर उभरकर आ रही है ।

Read This Also : Rani Laxmi Bai Death Anniversary : खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी, महारानी लक्ष्मी बाई के बलिदान दिवस पर विशेष

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

Rahul Gandhi Birthday : राहुल की शिक्षा व्यवस्था

जैसा कि पहले ही बताया गया कि बाल्यकाल से ही पिता का साया नहीं रहा और मां सोनिया गांधी की ममता की छावं में ये बड़े होते गए । राहुल गांधी की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के सेंट कोलम्बस स्कूल में हुआ ।

फिर कुछ समय बाद प्रसिद्ध दून विद्यालय में दाखिला दिलवाया गया । वहां इन्होंने अच्छा अध्ययन किया । लेकिन प्रधानमंत्री के पुत्र होने की वजह से इनके परिवार के साथ खतरे का बड़ा अंदेशा रहा इसलिए सुरक्षा कारणों से 1981 से 1983 तक घर पर ही अध्ययन करना पड़ा ।

उच्च शिक्षा इन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालय के रोलिस कॉलेज फ्लोरिडा से कला स्नातक उपाधि सन 1994 में ली । और 1995 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय ट्रिनिटी कालेज से एमफिल की उपाधि ली । इस तरह इन्होंने पिता के अभाव में भी अपने आप को शिक्षा के क्षेत्र में सशक्त किया ।

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

शुरुआती कैरियर

इनके अंदर। कोई राजनैतिक महत्वाकांक्षा नही थी लेकिन मां को सहायता करने व पिता के सपनों को पूरा करने देश सेवा के रास्ते पर आए । शुरू में तो प्रबंधन गुरु माइकल पोर्टर की परामर्श कम्पनी मॉनिटर ग्रुप के साथ 3 साल काम किया।

2002 में मुम्बई में अभियांत्रिकी एवम प्रोद्योगिकी से संबंधित कम्पनी आउट सोर्सिंग कम्पनी बैंकप्स सर्विसेस प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक मंडल के सदस्य बने । इसके बाद ही राहुल गांधी का राजनैतिक सफर शुरू हुआ ।

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

युवा शक्ति के रूप में राजनीतिक सफर

राहुल गांधी का राजनीतिक सफर युवा शक्ति के रूप में ही शरू हुई । वे राजनीति में सबसे कम उम्र के प्रतिभाशाली युवा के रूप में जाने जाने लगे । 2003 में वे अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ पाकिस्तान भी गए वहां के युवा समुदाय को प्रेरित किया ।

धीरे धीरे युवा नेतृत्व के रूप में राहुल की उपलब्धि बढ़ती गई । उंन्होने अपने पिता के संसदीय क्षेत्र अमेठी का दौरा किया । फिर वे रायबरेली का दौरा किया । इस दौरे से उनकी राजनीतिक समझ बढ़ी और वे स्वतंत्र होकर राजनीति करने लगे ।

क़ई जगहों पर युवा शिविर में शामिल हुए और अपना युवा दृष्टिकोण रखा । भारत के युवा उनसे प्रभावित होने लगे । धीरे धीरे युवाओं की भीड़ उनके पीछे चलने लगी ।

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

उनकी राजनीतिक प्रतिभा इतनी जल्दी मुखर हुई कि वे 24 सितंबर 2007 को कम उम्र में ही राष्ट्रीय कांग्रेस के महासचिव बनाये गए । फिर उन्होंने युवा कांग्रेस और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का भार भी संभाला ।

2009 में अमेठी संसदीय सीट से 3 लाख 33 हजार वोटों से जीते । फिर वे देश भर का दौरा करने लगे । वे कांग्रेस में प्रमुख के तौर पर स्थापित हो गए । वे कांग्रेस अध्य्क्ष भी बनाये गए पर चुनावों में कांग्रेस के कुछ खराब प्रदर्शन के चलते उन्होंने अध्यक्ष पद छोड़ दिया ।

लेकिन अब राहुल गांधी कांग्रेस की मुख्य धुरी में से है और सब उनको एक बार फिर राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष बनाये जाने की कवायद चल रही है । आज उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं हैं कि वे निरन्तर आगे बढ़े ।

राहुल गाँधी के चाचा संजय गाँधी का एक हेलीकाप्टर दुर्घटना में निधन हो गया था। संजय गाँधी अपनी माता इंदिरा गाँधी के राजनितिक जीवन से जुड़े और राजनीती में भी बड़ा हिस्सा लिया। वे अपने समय में राजनीती में काफी चर्चित रहे।

Rahul Gandhi Birthday : राजनेता से कहीं ज्यादा युवा शक्ति के प्रतीक बन गए राहुल गांधी

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: