Friday, June 25th, 2021

Big bull Rakesh Jhunjhunwala ने इन दो सरकारी बैंकों को बताया फेवरेट, रिटेल निवेशकों के लिए बंपर कमाई का मौका

राकेश झुनझुनवाला ने कहा कि महामारी के दूर होने के बाद आर्थिक सुधार में सरकारी बैंकों का योगदान बहुत बड़ा होगा

बिग बुल और इंडियन वॉरेन बफे राकेश झुनझुनवाल ने कहा कि कोरोना महामारी के बाद पब्लिक सेक्टर बैंकों का योगदान काफी अहम होगा और इनके शेयर अच्छा प्रदर्शन करेंगे. मनी कंट्रोल के साथ खास बातचीत में उन्होंने कहा कि इस संकट के दूर होने के बाद क्रेडिट ग्रोथ में तेजी आएगी और सरकारी बैंकों के शेयरों में तेजी देखने को मिलेगी. देश के 12 पब्लिक सेक्टर बैंकों के स्टॉक में उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और कैनरा बैंक को अपना फेवरेट स्टॉक बताया है.

झुनझुनवाला ने कहा कि इस समय क्रेडिट ग्रोथ 6-7 फीसदी के करीब है जिसे 15 फीसदी तक पहुंचने का अनुमान है. उन्होंने कहा कि इस साल भारत की अर्थव्यवस्था में 10 फीसदी की तेजी दर्ज की जाएगी. 2022 में यह ग्रोथ रेट 6-10 फीसदी रह सकता है. एसबीआई और केनरा बैंक ने मार्च तिमाही में शानदार प्रदर्शन किया है.

केनरा बैंक का लक्ष्य 190 रुपए तक

मार्च तिमाही में केनरा बैंक ने 1011 करोड़ का नेट प्रॉफिट दर्ज किया है. मार्च 2020 में बैंक को 3259 करोड़ का नुकसान हुआ था. वित्त वर्ष 2020-21 में नेट इंट्रेस्ट इनकम 18.57 फीसदी बढ़कर 24062 करोड़ रहा. इस समय कैनरा बैंक का शेयर 151 रुपए के स्तर पर ट्रेड कर रहा है. 52 सप्ताह का उच्चतम स्तर 174 रुपए है. LKP Securities ने इस शेयर में निवेश का सलाह दिया है और टार्गेट प्राइस 190 रुपया रखा है.

SBI के शेयर का लक्ष्य 600 रुपए पार

SBI का रिजल्ट शानदार रहा है. मार्च तिमाही में बैंक के नेट प्रॉफिट में 80 फीसदी का उछाल आया है. रिजल्ट आने के बाद से ब्रोकरेज फर्म्स ने इस शेयर के परफॉर्मेंस को लेकर मजबूत संकेत दिए हैं. इकोनॉमिक टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, मोतीलाल ओसवाल ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के लिए नया टार्गेट प्राइस 530 रुपए कर दिया है. ब्रोकरेज फर्म CLSA ने टार्गेट प्राइस बढ़ाकर 650 रुपए कर दिया है. पहले उसका टार्गेट 600 रुपया था. Morgan Stanley ने एसबीआई के लिए टार्गेट प्राइस 600 रुपया कर दिया है. Goldman Sachs ने नया टार्गेट 648 रुपए का दिया है. Nomura ने यह लक्ष्य 550 रुपए का है. JP Morgan ने टार्गेट प्राइस को 450 रुपए से बढ़ाकर 515 रुपए कर दिया है. इस तरह तमाम ब्रोकरेज के अनुमान के मुताबिक औसतन एसबीआई का शेयर प्राइस 550-600 के बीच तक पहुंच सकता है.

बैंकों को री-कैपिटलाइज किया जाएगा

इसके अलावा ब्रोकरेज फर्म का ये भी कहना है कि सरकार असेट मैनेजमेंट कंपनी, हाउसिंग फाइनेंस कंपनी और इंश्योरेंस कंपनियों में हिस्सेदारी बेचकर बैंकों को री-कैपिटलाइज करेगी. इससे बैंकों में लिक्विडिटी बढ़ेगी साथ ही असेट क्वॉलिटी में भी सुधार होगा.

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: