Friday, July 23rd, 2021

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने नागरिकों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए दिए विशेष सम्बोधन

नई दिल्ली,(न्यूज़ हसल इंडिया)
आज का समय कोरोना और ज़िंदगी के बीच हार-जीत के संघर्ष का बड़ा ही कठिन समय है। दुनिया में शायद यह पहली बार ऐसा दिख रहा है कि कोविड की समस्या ना सिर्फ राष्ट्रीय अपितु अंतराष्ट्रीय स्तर पर एक बहुत ही गंभीर समस्या पैदा कर दी है। इस जंग में सरकार ने वैक्सीनेशन का काम तो कर रही है। पर इससे पूरी समस्या का समाधान संभव नहीं है। जिसके बारे में एक महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने पत्रकारों को संबोधित किया। उन्होंने इस सम्बोधन की प्लानिंग अतिशीघ्र ही की है। इसका उद्देश्य हमारी आर्थिक व्यवस्था को मजबूत बनाना तथा भ्र्ष्ट लोगों को जनता की सुरक्षा में आड़े आने से रोकना है। जिससे हम जनता के रक्षक बन सकें। उन्होंने अपने वक्तव्य के माध्यम से यह बताया कि कोरोना की स्थिति अभी भी कठिन बनी हुई है। अन्य देशों की तुलना में हमारे देश में इसका सुधार अच्छा दिख रहा है। इसके अलावा पिछले तीन माह यानी जनवरी से मार्च के बीच का समय अत्यंत ही महंगाई के दौर से गुजरा है। जिसमे रेल्वे के किराये में बढ़ोत्तरी हुई है। अनाज के दामों जैसे दाल एवं तिलहन जैसे अन्य सामान भी महंगे हुए हैं। यह सब कोरोना के चलते आई ट्रांस्पोर्टेशन की समस्याओं के चलते हुआ है।जिससे हुई हानी का सामना हमारी जनता को करना पड़ रहा है। ज़िंदगी की मुलभुत आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए ये सभी संघर्ष कर रहे हैं। इसके अलावा शक्तिकांत दास ने कोविड के समय में सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स और सामाजिक कार्यकर्ताओं को उनके सहयोग के लिए हृदय से धन्यवाद भी दिया। उन्होंने यह भी विश्वास दिलाया कि आरबीआई अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए जरूरी संसाधनों और उपकरणों की व्यवस्था करेगा। छोटे कर्जदारों के लिए भी विशेष शर्तों के साथ लोन रीस्ट्रक्चरिंग की सुविधा प्रदान की है। इसके साथ ही उन्होंने कोविड की समस्या से लड़ने के लिए बैंकों को लिक्विडिटी जैसे योजनाओं को क्रियान्वित करने के लिए 50000 करोड़ रूपये की घोषणा की है। केंद्रीय बैंकों ने स्माल फाइनेंस बैंको के माध्यम से जनता को सुविधा देने के लिए रेपो ऑपरेशन की घोषणा की है।जिसमें किसी नागरिक को आवश्यकता पड़ने पर 10 लाख तक का कर्ज इन बैंको से ले सकता है।
आरबीआई ने 1 दिसम्बर 2021 तक सिमित केवाईसी के उपयोग को अनुमति प्रदान कर दी है। आरबीआई के इस सम्बोधन के बाद उम्मीद की जा रही है कि इससे जनता को ऐसे कठिन समय में राहत की किरण दिखाई देगी।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: