Saturday, July 24th, 2021

Rural Story : दुनिया में सर्वधर्म समभाव के मिसाल हैं ‘भलूर’ गावंवासी

चंडीगढ़,न्यूज हसल इंडिया, आपसी भाईचारा,सामाजिक सौहार्द और सांप्रदायिक सद्भाव का मिसाल देखना है तो पंजाब के मोगा जिले के एक गावं ‘भलूर’  में देखा जा सकता है जहां के लोग सिर्फ चंद मुस्लिम परिवारों की आराधना के लिए मस्जिद बना रहें हैं । मीडिया रिपिर्ट्स के अनुसार भलूर गावँ दुनिया में सर्वधर्म समभाव का जीता जागता उदाहरण है ।

सामाजिक समरसता

अक्सर हम लोगों ने छोटी छोटी बातों और धर्म के नाम पर आपस मे एक दूसरे को लड़ते लड़ाते देखा है । इतिहास में मन्दिर मस्जिद के बड़े टकराव की कहानियां मौजूद है । राम मंदिर उसका एक उदाहरण भी है । पर भलूर गावँ के रहवासी इन सब मतभेदों से परे हैं । वे आपस मे एक परिवार की तरह विभिन्न जाति और समुदाय के लोग रहते हैं । आपस के दुखसुख बिना मतभेद के बांट लेते हैं । गावँ में 7 गुरुद्वारे हैं और 2 मन्दिर है पर मस्जिद नही है तो सब मिलकर चार मुसलमान परिवारों के लिए मस्जिद भी बनवा रहें हैं । गावँ की आबादी 12 हजार के करीब है और मस्जिद की नीवं रखने के लिए सबने मिलकर कार्यक्रम भी किया । इस मौके पर गावँ वालों ने भंडारा भी लगाया और लोगों को जलेबियाँ खिलाई । लोग मस्जिद के लिए पैसा भी दान दे रहें हैं । बताया जा रहा है अगले साल तक मस्जिद तैयार हो जाएगी ।

पुराना इतिहास

मस्जिद के मामले पर गावँ वाले बताते हैं कि देश विभाजन से पहले यहां मस्जिद हुआ करती थी किन्तु लोग इस जगह को छोड़कर चले गए । मस्जिद की देखभाल नही होने से वह धीरे धीरे खंडहर में तब्दील होकर लुप्त हो गई । अब यहां मुसलमान गिनती के रहते हैं । करीब 4-8 परिवार है पर उनके लिए भी गावँ वालों ने मस्जिद की कल्पना की यह बड़ी बात है । निःसन्देह भलूर वासी प्रशंसा के पात्र हैं जो लोगों को संप्रदायिकन सद्भाव के साथ जाति धर्म के मतभेदों से दूर जीना सिखा रहें हैं ।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: