Tuesday, June 22nd, 2021

81 वर्षीय वृद्ध दुर्गाप्रसाद द्विवेदी ने कोरोना को दी ऐसी मात जिसे जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान ?

शहडोल ,(न्यूज़ हसल इंडिया)

    शहडोल निवासी बुजुर्ग श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी जिनकी उम्र लगभग 81 वर्ष है, वे कोरोना पीडि़त हो गए थे और उन्हें मेडिकल कॉलेज के कोविड-19 भर्ती किया गया था। बुजुर्ग श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी सकारात्मक ऊर्जा के अनुकरणीय उदाहरण बन गए। उन्होंने अपनी सकारात्मक सोच एवं सकारात्मक उर्जा के कारण कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को मात देकर अब वे पूर्णतः स्वस्थ हैं।

     श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी का कहना है की यदि व्यक्ति में सकारात्मक सोच, सकारात्मक ऊर्जा, के साथ-साथ दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो वे कोरोना बीमारी को भी हरा कर अपनी जिंदगी का विजय का परचम ठहरा सकता है। श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी कोरोना पीडि़त मरीजों के लिए रोल मॉडल साबित हो रहे हैं। उनका कहना है कि जिला प्रशासन एवं मेडिकल कॉलेज शहडोल के चिकित्सक एवं नर्सिंग स्टाफ के अभूतपूर्व चिकित्सकीय सेवा भाव से वे स्वस्थ हुए हैं।

    उन्होंने सभी नागरिकों को से अपील की है की कोरोना संक्रमण से बचने के लिए शासन के दिशा निर्देशों का पालन करें। मास्क का उपयोग करें, सोशल डिस्टेंसिंग पालन करें तथा साबुन या सैनिटाइजर से बार-बार हाथ धोए, अनावश्यक घर से बाहर ना निकले तथा भीड़-भाड़ वाले स्थानों में जाने से बचें, तभी हम सब मिलकर कोरोना महामारी को हरा सकते हैं।      बुजुर्ग श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी ने कहा कि हर व्यक्ति के पास सकारात्मक सोच एवं सकारात्मक ऊर्जा का भंडार रहता है। आवश्यकता इस बात की है उसे सही रूप इस्तेमाल किया जाए। यदि मन में दृढ़ विश्वास हो तो सामान्य कोरोना के मरीज होम आइसोलेशन में रहकर भी शासन द्वारा उपलब्ध कराई गई मेडिकल किट, रोग प्रतिरोधक काढा का उपयोग कर तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता वाली दवाओं का प्रयोग कर अपने को सुरक्षित कर सकता है। उन्होंने कहा है कि टीकाकरण भी अवश्य कराएं, क्योंकि टीकाकरण ही वह माध्यम है जो आपके सकारात्मक ऊर्जा एवं सकारात्मक सोच को मजबूत करेगा और आप कोरोना जैसी महामारी को भी हरा सकते हैं।

          श्री दुर्गा प्रसाद त्रिवेदी की कोरोना का मात देने की यह कहानी सच्ची है, इसको सभी को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: