Friday, July 23rd, 2021

Supreme Court ने Oxygen की जरूरत और वितरण पर नज़र रखने Task Force का गठन किया

Supreme Court ने Oxygen की जरूरत और वितरण पर नज़र रखने Task Force का गठन किया

Supreme Court ने Oxygen की जरूरत और वितरण पर नज़र रखने Task Force का गठन किया : कोरोना महामारी के चलते भारत में त्राहिमाम मचा हुआ है और ऑक्सीजन की किल्लत लगातार पुरे देश में दिखी , जिसके चलते सुप्रीम कोर्ट Supreme Court ने एक टास्क फोर्स Task Force का गठन किया है , आपको बता दें की इस टास्क फोर्स Task Force के बारे में कोर्ट पिछले एक महीने से विचार कर रही थी क्योंकि पुरे देश में ऑक्सीजन Oxygen की किल्लत से मरीजों की लगातार मौर हो रही थी।

देश विदेश से लगातार आ रहे मदत को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट Supreme Court ने 12 लोगों की एक टीम का गठन किया है इसे उन्होंने टास्क फ़ोर्स Task Force का नाम दिया है। कोर्ट ने ऑक्सीजन Oxygen की किल्लत को मद्देनज़र रखते हुए गठन किया है। यह टीम देश में ऑक्सीजन Oxygen की हो रही जरूरतों पर नज़र रखेगी और डिस्ट्रीब्यूशन पर ध्यान रखेगी। इस मामले की सुनवाई शनिवार को हुई है जिसमे कोर्ट के जस्टिस डी वाई चंद्रचूर्ण की टीम ने यह फैसला लिया है इस टास्क फ़ोर्स में केंद्र शासन कैबिनेट सचिव कन्वेनर की भूमिका निभाएंगे

टास्क फोर्स Task Force में वेस्ट बंगाल यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज कोलकाता के पूर्व वीसी डॉ. भबतोष बिश्वास, सर गंगाराम हॉस्पिटल दिल्ली के चेयरमैन डॉ. देवेंदर सिंह राणा, नारायणा हेल्थ केयर बेंगलुरू के चेयरपर्सन और एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी, क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर की प्रोफेसर डॉ. गगनदीप कांग, तमिलनाडु में क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज के ही डायरेक्टर डॉ. जेवी पीटर शामिल हैं।

इनके अलावा मेदांता हॉस्पिटल के चेयरपर्सन और एमडी डॉ. नरेश त्रेहन, फोर्टिस अस्पताल में क्रिटिकल केयर मेडिसीन के डायरेक्टर डॉ. राहुल पंडित, सर गंगाराम अस्पताल की डिपार्टमेंट ऑफ सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी और लिवर ट्रांसप्लांट की डायरेक्टर डॉ. सौमित्र रावत, आईएलबीएस के सीनियर प्रोफेसर डॉ. शिव कुमार सरीन और हिंदुजा हॉस्पिटल के डॉ. जरीर एफ उडवाडिया शामिल हैं।

केंद्र का दावा ऑक्सीजन की कमी नहीं है भारत में


केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को दावा किया था कि भारत में भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन है और इसपर केंद्र की नज़र बानी हुई है। भारत की कुल क्षमता 7 हजार मैट्रिक टन की है और अभी भारत में 9 हजार मैट्रिक टन ऑक्सिजन बना रहा है।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: