Wednesday, June 23rd, 2021

Telangana Story : पैसा नहीं चाहिए जनाब मेरी पत्नी का शव कब्रिस्तान तक पहुंचा दो , कोरोना ने निगल लिया इंसानियत

Telangana Story : नईदिल्ली/कामारेड्डी, न्यूज हसल इंडिया,

कोरोना का भय इतना ज्यादा घर कर गया है कि लोग अब अपनी इंसानियत भी भूलने लग गए हैं । तेलंगाना में कामारेड्डी जिले में एक ऐसी दारुण कथा सामने आई है जिसे सुनकर आपका दिल रो पड़ेगा । लोगों के मन में कोरोना का भय इतना समाया हुआ है कि कितनी भी दिक्कत क्यों न रहे कोई किसी के पास जाना नही चाहता ।

सारी इंसानियत कोरोना ने जमीन में दफन कर दिया है । तेलंगाना के कामारेड्डी रेलवे स्टेशन के सामने एक स्वामी नाम का भिखारी भीख मांग कर सपत्नीक गुजर बसर कर रहा था । बीती रात उसकी पत्नी की तबियत खराब हो गई और वह चल बसी । उसका कोई नहीं था उसने वहां जो भी दिखे सबसे विनती किया कि कोई दाह संस्कार के लिए एम्बुलेंस या वाहन दिला दे पर किसी ने व्यवस्था नहीं की । ठेला भी मिल जाता तो भी वह शव ठेल लेता ।

पर सबने अनसुनी कर दी । कुछ लोगों ने पैसे देकर पाला छुड़ा लिया । वह बोलता रहा पैसे नहीं चाहिए जनाब । पत्नी के शव को कब्रिस्तान पहुंचाने के लिए सहायता कर दीजिए । पर कोरोना का भय इतना बलशाली है कोई चार कंधे देने वाला नहीं मिला । रेलवे के एक अधिकारी ने एम्बुलेंस के बदले 25 सौ रुपये दे दिए ।

ओर उससे क्या उसे तो मृत देह को पहुंचाने वाला चाहिए था । कोरोनाकल में दया धर्म दान की कहानियां बनाने वाले लोग एक अशक्त भिखारी को कंधे तो दूर एक वाहन नहीं दे सके । अंततः वह स्वामी अपनी मृत पत्नी को कंधे पर लादकर ज्यों त्यों तीन किलोमीटर स्थित कब्रिस्तान ले गया । रास्ते भर वह सहयोग के लिए गुहार लगाता रहा पर कोई पास नहीं फटका ।

वह अशक्त था बीच में थक जाने पर फिर कुछ देर रुक रुक कर सुस्ता सुस्ता कर अंततः कब्रिस्तान ले गया । कब्रिस्तान में कुछ लोगों ने गड्ढा खोदने व दफनाने में मदद की । कोरोना ने निगल लिया इंसानियत ।

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: